Monday, August 29, 2011

सारी प्रकति चुप हैं




ध्यान से देखे तो आप पाएँगे


सारी प्रकति चुप हैं 


एक मनुष्य बोलता हैं


सारी स्रिस्टी चुपचाप 


अपना काम करती हैं


पेड़ अपना सर्वस्व देकर भी चुप हैं


बादल पानी देकर भी चुप हैं


धूप आँच देकर भी खुश हैं


एक ज़ुबान की आवाज़ आती हैं


वरना सारी प्रकती तो शांति से 


अपना धर्म निभाती हैं..


यहा तक की पाव चलकर भी शांत हैं


बुद्धि सब करके भी नही बताती हैं


आँखे देख कर भी चुप रह जाती हैं


लेकिन एक ज़ुबान ऐसी हैं जो


बिना पैसे, सब की वकालत कर जाती हैं


शांत करो मन को और प्रकती को देखो


देख कर मौज करो..आनंद लो, मत शोर करो


ज़ुबान को विश्राम दो... सबसे सुखी बन जाओगे


सारी दुनिया मे इज़्ज़त ही इज़्ज़त पाओगे


 ·  · Share · Delete
    • Alam Khursheed वाह !
      Yesterday at 12:34pm ·  ·  2 people
    • Bhavna Varandani v nice
      Yesterday at 12:35pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare Thanks Alam ji
      Yesterday at 12:35pm · 
    • Aparna Khare THanks Bhavna Di...............Happy Birthday Di
      Yesterday at 12:36pm · 
    • Rajani Bhardwaj ज़ुबान को विश्राम दो................. kya ye sambhav ho payega aparna...... khte hai aadmi khaye bina rh jaye pr khe bina na rhe............. achchha likha h
      Yesterday at 12:36pm ·  ·  2 people
    • Aparna Khare thanks Rajni ji
      Yesterday at 12:36pm · 
    • Govind Gopal Vaishnava तपिश ऐसी कि शहर शमशान नजर आता है
      उसको हर शख्स यहाँ परेशान नजर आता है
      प्यास बुझ जायेगी उसकी कोई कतरा तो मिले
      अब तो सागर भी यहाँ वीरान नजर आता है
      Yesterday at 12:40pm ·  ·  1 person
    • isiliye nad ko bramh kahate hain
      Yesterday at 12:41pm ·  ·  1 person
    • Deepa Kapoor sahi...chup rhne mein hi bhalai hai....
      Yesterday at 12:41pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks...deepa ji
      Yesterday at 12:42pm · 
    • Aparna Khare thanks pramod tewari....ji
      Yesterday at 12:42pm · 
    • Govind Gopal Vaishnava देख कर मौज करो..आनंद लो, मत शोर करो
      ज़ुबान को विश्राम दो... सबसे सुखी बन जाओगे
      सारी दुनिया मे इज़्ज़त ही इज़्ज़त पाओगे.....काश यह हो ......जीवन कितना सुखमय हो जाये ....
      Yesterday at 12:42pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks govind ji
      Yesterday at 12:42pm ·  ·  1 person
    • Manoj Kumar Bhattoa wah ! very nice...
      Yesterday at 12:43pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks manoj kumar bhattoa ji
      Yesterday at 12:44pm · 
    • Suman Mishra koi jabbab naheen,,,,,,ekdam saty likha aapne
      Yesterday at 12:55pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks dear
      Yesterday at 1:00pm ·  ·  1 person
    • Chitra Rathore Aparna Ji...patey ki baat ki hai aapney...par...samajhney waalon ki...iski jaroorat nhi...aur naaa samajhney waalon...ko is baat sey koi saarokaar nhi...:)
      Yesterday at 2:08pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare sach hain chitra ji
      Yesterday at 2:23pm ·  ·  1 person
    • Manoj Gupta परिंदों को मिलेंगी मंज़िलें,
      ये फैले हुए उनके पर बोलते हैं |
      वही लोग रहते हैं खामोश अक्सर,
      ज़माने मे जिनके हुनर बोलते हैं ||
      Yesterday at 2:30pm ·  ·  3 people
    • Rajiv Jayaswal कभी कभी
      ज़ुबान को विश्राम दो
      बादल को देखो
      फूलों को देखो
      कभी कभी
      ज़ुबान को आराम दो |
      Yesterday at 3:16pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Manoj ji
      Yesterday at 3:16pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Rajiv ji
      Yesterday at 3:17pm ·  ·  1 person
    • Niraj Dangwal · Friends with Kiran Arya and 4 others
      bhout asahi...
      23 hours ago ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Niraj Dangwal ji
      23 hours ago ·  ·  1 person
    • Shamim Farooqui Bahut sundar.
      19 hours ago ·  ·  1 person
    • Parveen Kathuria bahut sunder
      18 hours ago ·  ·  1 person
    • Ashish Khedikar Ati Sundar Aparna ji..

      एक ज़ुबान की आवाज़ आती हैं
      वरना सारी प्रकती तो शांति से
      अपना धर्म निभाती हैं..
      17 hours ago ·  ·  1 person
    • Gopal Krishna Shukla जरूरत भर बोलना.. क्योंकि शब्द ब्रह्म है..... यही शिक्षा दे रही है आपकी रचना...
      बहुत सुन्दर रचना अपर्णा जी....
      16 hours ago ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Shamim Farooqui ji, Parveen Kathuria ji,Ashish Khedikar ji and Gopal Krishna Shukla ji
      4 hours ago ·  ·  1 person
    • Aameen Khan sunder rachna hai ji.
      7 minutes ago ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Aameen Khan ji
      5 minutes ago · 

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home