Sunday, May 27, 2012

परिवार का मोह


परिवार का मोह
हमे सताता हैं
बिना परिवार हमसे
रहा नही जाता हैं
चाहो तो अपने
विष्णु भगवान से पूछ लो
अपने तीसरे अवतार मे
उन्होने भी परिवार का सुख पाया हैं
हिरणाक्श को मारने हेतु उन्होने भी
वाराह अवतार का रूप बनाया हैं
वध किया हिरणाक्श का ........
लेकिन खुद को वही फसाया हैं
खूब किया प्यार अपने पत्नी बच्चो को
दलदल मे अपने को गिराया हैं
जब नही मिले वो देवताओ को
देवताओ ने ने उन्हे सुवर के रूप मे उन्हे पाया हैं
लगाया जब तीर सुवर को
उसे वही मार गिराया हैं
तब कहीं जाकर विष्णु को भी अपना
असली स्वरूप याद आया हैं
सोचो............
कितनी लुभावनी हैं माया
कोई भी इसके चंगुल से
बच नही पाया हैं

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home