Tuesday, March 13, 2018

मेरे जाने के बाद भी
मेरी खुशबू
फिज़ाओ में रहेगी
महसूस करना मुझे
फूलों में
हर किताब
कुछ न कुछ कहेगी

दिल अपना
खोलकर दिखाए भी तो कैसे?
जो नही अपना
उसे पास लाये भी तो कैसे?

नए चेहरे है
नए लोग है साथ जिंदगी संभल के तू चलना
न बताना इन्हें अपने एहसास

हैरानी होती है
वक़्त के साथ हम चल क्यों नही पाते
वक़्त की नदियां में
क्यों है डूब जाते

दिल की बातें यू नही कहते
पता है उसे, जिसे दिल है कहते

चले तो अकेले है जिंदगी में रास्ते मे तुम मिल जाना सफर हो जाएगा सुहाना
किसी को न बताना

खुशी घर से जरा गुस्से में निकली है
बच के रहना
तुमको न मिल जाये कहीं,हो सके तो एक बार उसे हँसा देना

दिल की सफाई की तो ये महसूस हुआ
दिल के हर कोने में छाप तुम्हारी ही तो है

नही हो तुम किस्मत की लकीरों में तो क्या
हम नई किस्मत बना लेंगे
कैद कर लेंगे तुम्हे दिल मे
किस्मत को रुला देंगे

मैं सच भी कहूंगी तो तुम नही मानोगे
तुम्हारे झूठ से भी बहुत प्यार है मुझे

अब तो हर बात में
तुम्हारा ही जिक्र
तुम्हारा ही
एहसास है

मत दो
मुझे कुछ
बस साथ तो चलो
अपने होने का
एहसास तो दो

मैं जीती हूँ
तुम में
तुम हो कि
मुझपे
मरे जाते हो

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home