Tuesday, April 24, 2018

मरहम

अपनी कलम से
कुछ गम
लिख के हम
दिल को मरहम देते है
लोग है .....
कि हमें
न जाने क्या क्या
समझ लेते है.....
कहूँ क्या किस्सा
गमे दिल का ए दोस्त
अब तो गम के
गुलशन में भी हम
कुछ देर खुश रह लेते है।।।

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home