Tuesday, April 24, 2018

पुरुष विहीन धरती


क्या करे स्त्री
पुरुष भरोसा छोड़
उसे उड़ना ही होगा
जब नही बची है
धरती पे जगह
उसके लिए
उसे आकाश में
विचरण करना होगा
आकाश में
नया घर
बनाना होगा

जहां पुरुष प्रवेश
पूर्णतः वर्जित होगा
मालकिन भी स्त्रियां
दासी भी स्त्रियां
राजा भी, रानी भी
बाँदी भी स्त्रियां

हर तरफ़ होगा
सिर्फ और सिर्फ
स्त्रीयों का हुजूम
अपनी तरह से
जीने का हक़
अपने कानून बनाने का
हक़
अपने मन की रानी
होगी वो स्त्रियां

शायद
किसी कानून की
आवश्यकता ही न पड़े
कानून तो
स्त्री पुरुष को
सभ्य
बनाने के लिए होते है
असभ्य
प्रायः पुरुष हुआ करते है
स्त्रियां नही!!!!@अपर्णा खरे

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home