Tuesday, September 25, 2012





थाम कर तेरा हाथ मुझे 
उम्र भर चलना हैं
नही रहना तुझसे हैं दूर..

मुझे इतना ही कहना हैं..
चल सकोगे मेरे साथ यू ही..उम्र भर

सजन ....तुम ही तो अब मेरा गहना हो..
एक पग भी बढ़ाया तुम्हारे बगैर
डरती हूँ कहीं खो ना जाउ
दुनिया की गहरे समुंदर मे डूब ना जाउ
तुम करो वादा साथ रहने का...
तुम कहो तो मैं सब को भूल जाउ..

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home