Monday, September 24, 2012

अभिभूत हूँ मैं आपके प्यार से




आप सबने दिया इतना प्यार 
उतर गया हमारा सारा बुखार
अभिभूत हूँ आपके प्यार से..
करती हूँ अगर शुक्रिया..
लगता हैं मन को शब्द 

बहुत छोटा हैं..
लेकिन क्या कहूँ
दिल से आभारी हूँ
दे देते हो आप सब इतना प्यार
तभी तो फक्र से महसूस होता हैं..मुझे
आप सबकी बहुत प्यारी हूँ..
ये प्यार ता उम्र बनाए रखना
बनाया हैं जो रिश्ता प्रेम का
यू ही निभाए रखना......
ना जाना कभी हमे छोड़ कर
हमसे यू ही अपनापन बनाए रखना....
शुक्रिया शुक्रिया शुक्रिया.............

4 Comments:

At September 24, 2012 at 5:25 AM , Blogger डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सुन्दर और भावप्रणव प्रस्तुति!

 
At September 25, 2012 at 2:18 AM , Blogger Anju (Anu) Chaudhary said...

वाह बहुत खूब

 
At September 25, 2012 at 10:51 PM , Blogger aparna khare said...

thanks Uncle...

 
At September 25, 2012 at 10:51 PM , Blogger aparna khare said...

Shukriya Anu ji...

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home