Saturday, December 8, 2012

काम अच्छा चुना हैं.. खवाब भी अच्छा बुना हैं.


जो लोग दुखो की नुमाइश नही करते ..
ये मत समझना वो..वो दुखो को महसूस नही करते..
डूब जाते हैं भीतर तक..लेकिन दिल खाली नही किया करते

यू ही जीते जाओ..दुखो को पीते जाओ..
हंसते रहो हमेशा..गॅमो को दूर भगाते जाओ..

आ गये जो दिल मे तुम्हारे
कहाँ वो फिर लौट कर घर गये???

उदासी दिल का हिस्सा हैं
अब तो ये रोज़ का ही किस्सा हैं..
जान सकता हैं वही
जो इसमे रोज़ पिसता हैं

आँखो से गम का रिश्ता पुराना हैं..
 बहे चाहे ना बहे....उन्हे तो अपना गम छिपाना हैं..

ख़याल उड़ भी जाएँगे तो कहाँ जाएँगे..
आसमान हैं छोटा उनके लिए हमारे पास ही आएँगे

तुम कहाँ बदल पाओगे..
किया था जो प्यार
उसे कहाँ भूल पाओगे..
रहोगे दिल मे हर वो सपना..
जो हक़ीक़त मे ना बदल पाओगे..

नींद तो दे दी उनको..
वो सोए सारी रात..
आप रह गये करवाटे बदलते....
उनको....खवाबो का साथ..

दर्द मे भी कोई साथ निभाता हैं..
जब आँसू आते हैं..दिल भी भीग जाता हैं..
नही रहती किसी की भी ज़रूरत
अंधेरा साथ आता हैं

वो भी हमारे
आप भी हमारे
लिखने मे ज़रा सी हो गई देरी
आप हैं की बस बुरा माने

वक़्त कहाँ कर पाएगा इलाज़
जब मर्ज ही लाइलाज़ हुआ

मन का मीत हमारा मन हैं..
जीवन का नवगीत हमारा मन हैं
इस से लो शक्ति तुम..
सब कुछ कर सकता
हमारा मन हैं..

काम अच्छा चुना हैं..
खवाब भी अच्छा बुना हैं..

इंक़लाब भी आएगा..
भले हो वो आज बच्चा
कल तो युवा हो  जाएगा

तेरी तलाश उसे होगी..
जिसे तेरी याद होगी..

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home