Thursday, January 30, 2014

आज उसे भूखा मरना पड़ा..

उसके किस्से असली थे..
उसने जिया था ये सब कुछ.
समय बदला..लोग बदले..
सब कुछ बदलता गया..
खो गई विरासते..
रानी, रजवाड़े..ख़ान पान किमाम सब
और आज उसे भूखा मरना पड़ा..

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home