Tuesday, March 27, 2018

कविता में सब छिपा है

सोच की
गहराइयों से
झांकती कविता
कुछ न कहकर
बहुत कुछ
कहती कविता
अवसाद हो
या
प्रेम
लंबी छलांग
भरती कविता
सबसे सुंदर
सबसे प्यारी
तुम्हारी कविता

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home