Sunday, May 13, 2018


माँ मखमली, गुदगुदा नरम, एहसास है
माँ से मिली आस्था, प्रबल विश्वास है

माँ से मिली सबलता
माँ ने ही बढ़ाया आत्म विश्वास है

संबल है गर पिता
तो माँ समुचित प्रकाश है

बच्चों में है संभावनाएं
माँ अथक मेहनत, जी तोड़ प्रयास है!!!!

1 Comments:

At May 27, 2018 at 8:34 AM , Anonymous Anonymous said...

:)

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home