Tuesday, June 2, 2020

इश्क़ के नशा

इश्क़ का नशा 
यू उतरने न देना

थाम लेना हाथ 
मुँह फेर यू 
जाने न देना

लगा लेना गले 
गर वो कुछ गमगी लगे

पोछ देना अश्क 
अपने आँचल से
एहसास देना 
अपने करीब होने का!!

1 Comments:

At June 2, 2020 at 10:12 PM , Blogger डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

सार्थक रचना।

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home