Thursday, July 14, 2011

मुझे पहचान पाओगे............

मुझको भी ठेस लगती हैं
मेरा भी मॅन रोता हैं
जब तुम मुझको कुछ कहते हो
मेरे भी आँसू आते हैं
मेरा भी दिल दुखता हैं
तुमने मुझको क्या समझा
पथर हूँ क्या मैं इंसान नही
मेरी भी कुछ उम्मीदे हैं
मेरा भी कुछ हक़ बनता हैं
ना मांगू तुमसे कुछ भी
इसका मतलब ये तो नही
मैं दुनिया मे सबसे अच्छी हूँ 
मेरे मॅन मे कोई चाह नही
लेकिन मॅन की इस अनकही को 
तुम कहाँ समझ पाओगे
गुड़िया समझोगे तुम मुझको
अपने मॅन से खिलाओगे
मॅन मे बस एक उलझन हैं
तुमसे ना कुछ कह पाने का गम हैं
गम को कैसे झुठलाओगे
क्या कभी तुम मुझको समझ पाओगे..
या फिर मुझे पहचान पाओगे............







    • Aparna Khare thanks Sir
      3 hours ago · 
    • Maya Mrig हमने तुम्‍हारी चाह को समझना सीखा होता तो तुम्‍हें गुड़िया बनाकर ना रखा होता---तुम्‍हें भी महसूस होता है कुछ---यह हमें महसूस ही नहीं हुआ आज तक----
      3 hours ago ·  ·  2 people
    • Om Prakash Nautiyal सुन्दर भावाभिव्यक्ति !!!
      *
      3 hours ago · 
    • Aparna Khare Thanks Maya Mrig sir...सच हैं ये तुमने हमे नही समझा
      पर अब भी कुछ नही बिगड़ा
      समय नही निकला.......वक़्त वही ठहरा
      आज से हम एक दूसरे को जाने समझे और प्यार करे
      खुद को एक दूसरे की खातिर कुर्बान करे..
      3 hours ago ·  ·  2 people
    • Aparna Khare Thanks Om Prakash ji
      3 hours ago · 
    • Kiran Arya ‎// socha tha mujhe samjhte ho jaante ho tum, mere is dil ka armaan ho tum, lekin phir kya hua jo daman jhatak ke chhuda baithe, ab lagta hai kabhi samjhe hi nai tum mujhe hamesha ajnabhi hi rahe//...........Kiran Arya
      3 hours ago ·  ·  1 person
    • Manoj Kumar Bhattoa लेकिन मॅन की इस अनकही को
      तुम कहाँ समझ पाओगे
      गुड़िया समझोगे तुम मुझको
      अपने मॅन से खिलाओगे.....wah ! bahut khoob.....nice lines hai....
      2 hours ago ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Manoj Kumar Bhattoa ji
      2 hours ago · 
    • Aameen Khan kya tum kabhi muze samaz paoge?.......... stree hriday ko koyi jaan nahi paya hai...... sunder kavita.
      2 hours ago ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Aameen ji
      2 hours ago · 
    • Alam Khursheed Bhawukt ki nadi pathak ko bhi apni lahron men baha le jaati hai Aparna ji! Bahut sunder!
      about an hour ago ·  ·  1 person
    • Aparna Khare Thanks Alam ji
      50 minutes ago · 
    • Kump Singh wah bahut khub.......
      23 minutes ago ·  ·  1 person








0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home