Monday, July 11, 2011

मेरा वर्तमान

अब प्रासंगिक नहीं लगता
मन को उलझा कर रखना
तुम्हारे विषय मे सोचना
साथ जीने मरने की बात करना
अपनी हथेली की लकीरो पे
भरोसा करना
दामन को भिगोना.......
अकेले मे भी तुम्हारे विचारो की
परवरिश करना.....


बस रह गया हैं
अपने से लड़ना
भावनाओं को पीछे करना
खुद पे भी भरोसा ना करना
मुझसे मेरे वज़ूद का बिछड़ना..
खुद को खुद मे समेटने की
कोशिश करना.....
अपनी बेचैनी पे काबू करना
क्या ये मेरा वर्तमान हैं....
जो मुझपे इतना मेहरबान हैं



    • Deepa Kapoor Gud one aparna ji....
      Monday at 4:29pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare Thanks Deepa ji
      Monday at 4:30pm · 
    • Manoj Gupta Bhari hai bhai !!
      Monday at 5:00pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare ap halka kar de...
      Monday at 5:01pm · 
    • Manoj Gupta 
      मैंने सार्थकता की पगडण्डी चुनी
      सुविधा के मंच की जगह मैंने
      सिद्धांत के नेपथ्य में रहना
      ठीक समझा
      मैं चुप रहकर सुरक्षित रह सकता था
      और आनन्दित भी
      मैंने बोलकर खतरे मोल लिए
      हालाँकि मेरे विरोध से दुश्मन बेअसर रहा
      मैंने चिरायु होने की जगह जटायु होना पसंद किया
      जबकि शत्रु रावण की तरह शक्तिशाली था
      और मेरी पराजय पूर्व निश्चित
      हस्तक्षेप मेरे होने की अनिवार्य शर्त है
      और पराजय मेरी नियति
      शुतुरमुर्ग की तरह रेत में गरदन गडाना
      छोड मैंने हालात का जायजा लिया
      और चौकन्ना रहा
      खुली आँखों से दुश्मन की
      चालों को देखा
      मेरे और दुश्मन के मध्य हमेशा एक शतरंज बिछी रही
      जय पराजय की धूप-छाँव के बीच
      दाँव-पेंच मेरा जीवन रहा
      धृतराष्ट्र मैं न था
      और गांधारी मैं न हुआ
      तटस्थ द्रष्टा होने की अपेक्षा सक्रिय दृश्य बनना
      मेरा विकल्प रहा
      लहूलुहान होना मेरा मेकअप है
      और जूझते रहना दिनचर्या
      न मैंने गौरव किया अतीत का
      न भविष्य की चिन्ता
      अपने हाथों से निर्मित किया
      अपना वर्तमान।
      Monday at 5:02pm ·  ·  3 people
    • Aparna Khare waah ..................speechle​ss
      Monday at 5:20pm ·  ·  1 person
    • Ravindra Shukla भावना मूड, स्वभाव, व्यक्तित्व तथा ज़ज्बात और प्रेरणासे संबंधित है.काव्य गत बात की जाए तो ये सच है की कविता प्रवाह में बहती हुई है --मर्स्पर्शी भावो को कुरेदती हुई सार गर्भित रचना ---जो प्रासंगिक लगती है ---मुबारक ---...
      Monday at 5:21pm ·  ·  2 people
    • Aparna Khare उत्साहवर्धन का शुक्रिया...आप ने हमारी कविता की गहराई को जाना, समझा और सराहा...
      Monday at 5:24pm ·  ·  2 people
    • Kiran Arya Waah dost shabd nai hai mere pass kuch kahne ko, behtareen abhivyakti.............
      Monday at 6:17pm ·  ·  3 people
    • Niranjana K Thakur wah ! kabil-e-tarif !
      Tuesday at 12:15pm ·  ·  3 people
    • Pratul Misra vartmaan..................​speech less
      Tuesday at 12:18pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare Thanks Pratul Uncle......
      Tuesday at 12:21pm · 
    • Aparna Khare Thanks Niranjana ji
      Tuesday at 12:21pm · 
    • Manoj Kumar Bhattoa wah ! speechless....
      Tuesday at 12:35pm ·  ·  1 person
    • Rahul Rocky बहुत ही भावात्मक प्रस्तुति.....Aparnaji.....
      मूक दर्शक सा देख रहा हूँ , मजबूर सा
      वर्तमान है ये मेरा, या अतीत सामने है .....
      Tuesday at 12:54pm ·  ·  3 people
    • Aparna Khare thanks Rahul ji..
      Tuesday at 12:59pm ·  ·  1 person
    • Kamal Kumar Nagal AAP KI RACCHNAO ME JAAN HA...BAHUT BAHUT BADHAI HO..APARNA JI
      Tuesday at 2:26pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Kamal ji
      Tuesday at 2:48pm ·  ·  1 person
    • Om Prakash Nautiyal ‎*
      "..भरोसा करना
      दामन को भिगोना.......
      अकेले मे भी तुम्हारे विचारो की
      परवरिश करना..."
      भावनाओं को सरस और सहज अभिव्यक्ति दी है।सुन्दर रचना है।
      *
      Tuesday at 3:42pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Om prakash ji
      Tuesday at 3:42pm · 
    • Reenu Gupta GOODDDDDDDDDDDDDDDDDDDDDDD​DDDD DI
      Tuesday at 3:57pm ·  ·  1 person
    • Rahim Khan aap ke vichaaro me dinpratidin nikhar aate ja raha hai,,,,,,,,,,,,,,,,,bas yahi kah sakta hun...........
      Tuesday at 4:14pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Reenu
      Tuesday at 4:14pm · 
    • Aparna Khare Thanks Rahim ji
      Tuesday at 4:14pm · 
    • Naresh Matia बस रह गया हैं
      अपने से लड़ना
      भावनाओं को पीछे करना
      खुद पे भी भरोसा ना करना
      मुझसे मेरे वज़ूद का बिछड़ना..
      खुद को खुद मे समेटने की
      कोशिश करना............apne se ladna ya mai kahunga apne ko samjhna......wah jyada jaroori hain...lafne se sabse badi samsya har-jeet ki hoti hain...har gaye to toot gaye..jeet gaye to ahm aa gayaa.....apne ko samjh lya to sab pa liya........bahut badhiya rachna aapki.......
      Tuesday at 4:55pm ·  ·  2 people
    • Aparna Khare thanks Naresh ji
      Tuesday at 4:55pm · 
    • Mutha Rakesh behter
      Tuesday at 7:08pm ·  ·  1 person
    • Chitra Rathore Aparna Ji....nice lines...kal aur aaj key beech main khud key astitva ko talaashtee hui c rachna....
      kyaa bhram tha...kyaa sahi hai...
      kyaa hai jo...hokar bhi nhi hai...
      Tuesday at 9:27pm ·  ·  3 people
    • Aparna Khare thanks Mutha ji....bus ap ki chatra chaya ka kamaal hain
      Tuesday at 11:22pm · 
    • Aparna Khare Thanks Chitra ji..
      Tuesday at 11:22pm · 
    • Rajiv Jayaswal तुम मेरा कल थीं
      वर्तमान नहीं हो
      जुड़ा तुम से मैं कभी था
      जुदा मुझ से तुम अभी हो |
      Tuesday at 11:37pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare nahi juda hoon....mujhe pata hain thanks Rajiv ji
      Tuesday at 11:41pm · 
    • Poonam Matia ek kashmaksh jaari rahti hai.........hamesha apne se .......koi buraai nahi isme .......kya tha .kya hai .,kya hoga .........aur usse bhi mahtvpoorn ............kya ho sakta hai ........bas isi udhed-bun mei lage rahte hain sabhi ...............ek saarthak rachna ke liye badhaai Aparna ........
      Yesterday at 2:11am ·  ·  2 people
    • Alam Khursheed Bahot Koob Aparna Ji!
      Aap ke liye ek she'r jo aap ko kuchh aur rahat dega...:):):):)
      __________________________​_________________
      Bahut shiddat se chahoge to wo kho jayega Kharre!
      Jise dhoonda nahin jaata wo aasani se milta hai.......
      Yesterday at 7:49am ·  ·  1 person
    • Aameen Khan Mann ke aantarik dwandwa ko bahut bakhubhi prastuut kiya hai aapne. Nice one.
      Yesterday at 4:33pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare Thanks Aameen ji
      Yesterday at 4:34pm · 
    • Uday Tripathi waaaaaaahhhhhhhhh
      21 hours ago ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks uday ji..
      21 hours ago ·  ·  1 person
    • Uday Tripathi ‎:)
      21 hours ago ·  ·  1 person
    • Shamim Farooqui Bahut hi khubsurat aur naazuk ehsaas Aparna Khare..waah.
      2 hours ago ·  ·  1 person
    • Aparna Khare Thanks Shamim ji
      about an hour ago · 


0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home