Tuesday, July 26, 2011


काश तेरे शब्द मुझे चुभ ना गये होते..
हम भावहीन ना होते......
ना पीते हम आँसुओ का सागर
तपते रेगिस्तान से हम ना
हो गये होते............
तुम करते गर प्यार की बाते..
आज भी हम तेरे ही होते..
ना होता अहम, ना होती ज़िद
हम बस तुम मे ही खो गये होते..

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home