Monday, July 11, 2011

पानी जब खारा हो जाता

पानी जब खारा हो जाता 
तब आँसू कहलाता हैं
कोई खूशबू स्वाद नही
बस दर्द से भर जाता हैं
सहते सहते पाशड़ो को
हृदय भी पत्थर का 
बन जाता हैं
नही रहते ज़ज्बात यहाँ
सब कुछ आँसू संग
बह जाता हैं
पानी जब खारा हो जाता हैं..


यादे निकली, बातें निकली,
हृदय अब सूना सूना हैं
कोई नही हैं दिल मे मेरे..
हर कोना दिल का अपना हैं
रहा अकेला हूँ इस दुनिया मे
अपने से बाते करता हूँ
दुख लेता हूँ सुख लेता हूँ
अपने मे खुश रहता हूँ




    • Bhuwnesh Prabhu Joshi aparna jee........tarif nahi kar raha......aapka kavya insani zazbato ko ukerta hua kavy hai. Big fan of u.
      Monday at 1:39pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Joshi ji....
      Monday at 1:40pm · 
    • Niranjana K Thakur wah kay baat hain ! bahut khubsurat !
      Monday at 1:53pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare Thanks Niranjana K Thakur ji
      Monday at 1:54pm ·  ·  1 person
    • Ravindra Shukla लम्हों को जिया है ---पलो को झाड़ा है ---तब कही कह पाया हूँ की आंसू खारा है ------सारगर्भित बात की जाए तो पीड़ा का आंसू से गहरा नाता है ---कवि का दिल कोमल होता है ---ये तुमने उभारा है -------व्यंजना में शाब्दिक अर्थ महात्व रखते है -----भाव को दिल से निकलने दो --और संयोजन बजनी होगा ---वेसे मुझे पसंद है काव्य का ये स्पंदन ---मुबारक ---..
      Monday at 1:56pm ·  ·  3 people
    • Bhuwnesh Prabhu Joshi Grand Mastar Aparna jee........
      Monday at 1:57pm ·  ·  2 people
    • Parveen Kathuria very touching....lines..
      Monday at 2:08pm ·  ·  4 people
    • Aparna Khare Please Joshi ji....Jameen pe rehne de.....
      Monday at 2:09pm · 
    • Aparna Khare Thanks Parveen ji
      Monday at 2:09pm · 
    • Aameen Khan bahut sunder kavita.....
      Monday at 2:32pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Aameen ji
      Monday at 2:33pm · 
    • Manoj Kumar Bhattoa पानी जब खारा हो जाता
      तब आँसू कहलाता हैं
      कोई खूशबू स्वाद नही
      बस दर्द से भर जाता हैं.......Aparna Khare ji bahut khoob...wah !
      Monday at 2:45pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Manoj ji
      Monday at 2:48pm ·  ·  1 person
    • Manoj Gupta सन्देह नहीं, आँसू पानी तो होते ही
      वे तरल आग हैं, और जला सकते हैं वे,
      उनमें इतनी क्षमता भूचाल उठा सकते
      उनमें क्षमता, पत्थर पिघला सकते हैं वे।
      Monday at 3:00pm ·  ·  3 people
    • Manoj Gupta व्यक्ति फफक कर जीवन में रोया न कभी
      उसके जीवन में कुछ अभाव रह जाता है,
      दुख प्रकट न हो, भारी अनर्थ होकर रहता
      रो पड़ने से, वह सारा दुख बह जाता है।
      Monday at 3:03pm ·  ·  3 people
    • Aparna Khare waah...................bah​ut sunder Thanks Manoj Gupta ji
      Monday at 3:05pm ·  ·  1 person
    • Kiran Arya ‎// aise hi nai nikla aankh se yeh aansu, iske liye hamne dil ko apne phada hai, tabhi to pata chala hame ki yeh khara hai//........Kiran Arya
      Monday at 3:25pm ·  ·  2 people
    • Aparna Khare bahut sunder Kiran
      Monday at 3:26pm ·  ·  1 person
    • Kiran Arya ‎:))))))))))))))))))))))))​)))))))
      Monday at 3:32pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare Love u so much dear...
      Monday at 3:32pm ·  ·  1 person
    • Kiran Arya Luv u 2 my dear lovely frnd...............:))
      Monday at 3:33pm ·  ·  1 person
    • Alam Khursheed Bahut Khoob Aparna Ji!
      Waaaaaaah!
      Monday at 7:34pm ·  ·  1 person
    • Om Prakash Nautiyal ‎*
      "..यादे निकली, बातें निकली,
      हृदय अब सूना सूना हैं..."
      हृदय स्पर्शी !!!
      *
      Monday at 8:21pm ·  ·  1 person
    • Chitra Rathore bahoot achchi lines Aparna Ji....jab....rishton ki mithaas kaa bhram tootney lagtaa hai...to...man ki saari kadwaahat ...aur ...xpctnzzz aansu key roop main nikal aatee hain...
      Monday at 9:14pm ·  ·  4 people
    • Mutha Rakesh नही रहते ज़ज्बात यहाँ

      सब कुछ आँसू संग

      बह जाता हैं

      पानी जब खारा हो जाता हैं....waah aparnaji bahut hi sunder ..adbhut
      Monday at 11:00pm ·  ·  1 person
    • Naresh Matia bahut khoob.........sahi bat hain....jab kisi ke diye dard ki ati ho jati hain to.....ek waqt aisa bhi aata hain...jab sab aansoo ke roop mei bah jata hain...aur wo pathar ban jata hain...matlab fir us par kisi aur ke bhav aur prayaas ka koi farak nahi padta....par mujhe ek bat samajh nahi aayi ki wo insaan khush kaise rah sakta hain.....wo apne aap mei vyast to rah sakta hain...par khush nahi..
      Monday at 11:08pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare Mutha ji ap ki rachna se prerit hain meri ye rachna....apka bahut bahut shukriya
      Tuesday at 11:50am ·  ·  1 person
    • Rajiv Jayaswal पानी खारा हो जाता है
      तो अश्रु बूँद कहलाता है
      आँखों से बहता जाता है
      दुख गाथा कहता जाता है |
      Tuesday at 11:20pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare ji sahi kaha apne...Rajiv ji
      Tuesday at 11:23pm ·  ·  1 person
    • Shamim Farooqui Bahut hi khubsurat ehsaas jise utni hi khubsurti se pesh kiya gaya hai..waah Aparna Khare.
      about an hour ago ·  ·  1 person
    • Aparna Khare shukriya shamim ji
      a few seconds ago · 

5 Comments:

At July 11, 2011 at 1:22 AM , Blogger Ravindra said...

लम्हों को जिया है ---पलो को झाड़ा है ---तब कही कह पाया हूँ की आंसू खारा है ------सारगर्भित बात की जाए तो पीड़ा का आंसू से गहरा नाता है ---कवि का दिल कोमल होता है ---ये तुमने उभारा है -------व्यंजना में शाब्दिक अर्थ महात्व रखते है -----भाव को दिल से निकलने दो --और संयोजन बजनी होगा ---वेसे मुझे पसंद है काव्य का ये स्पंदन ---मुबारक ---

 
At July 11, 2011 at 1:23 AM , Blogger aparna khare said...

दादा आपका बहुत बहुत धन्यवाद...अपने मेरी रचना को इतना मान दिया

 
At July 11, 2011 at 3:25 AM , Blogger Manoj Gupta 'Mannu' said...

सन्देह नहीं, आँसू पानी तो होते ही
वे तरल आग हैं, और जला सकते हैं वे,
उनमें इतनी क्षमता भूचाल उठा सकते
उनमें क्षमता, पत्थर पिघला सकते हैं वे।

 
At July 11, 2011 at 3:26 AM , Blogger Manoj Gupta 'Mannu' said...

व्यक्ति फफक कर जीवन में रोया न कभी
उसके जीवन में कुछ अभाव रह जाता है,
दुख प्रकट न हो, भारी अनर्थ होकर रहता
रो पड़ने से, वह सारा दुख बह जाता है।

 
At July 11, 2011 at 3:28 AM , Blogger aparna khare said...

Thanks Manoj ji....ansoo nahi aag hain..ye sach baat hain....nikle jo ek ansoo 10 gav barbaad hain

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home