Thursday, September 22, 2011

प्रिय तुम तो मेरा प्यार हो...




तेरी हर अदा पे नाज़ हैं हमे..
तुम बिखरी रहो या उलझी
तुम्हारी हर बात खास हैं हमे
शाम होते ही मेरी यादो के 
तकिये पे तुम्हारा सर रखना
मुझे बहुत  भाता हैं..
तुम्हारा मुस्कुरा कर मुझे बुलाना 
मुझे अंतर तक हिला जाता हैं
क्या कहु तुम्हारी यादे, तुम्हारी बाते 
मेरे जीने का सबब बनती हैं
तुम्हारे होने मात्र से चाँदनी ठिठाकति हैं...
तुम हो तो सब हैं..
तुम प्राण हो, आधार हो, 
प्रिय तुम तो मेरा प्यार हो...

    • Niranjana K Thakur beautiful ji
      Monday at 12:14pm ·  ·  3 people
    • Rajiv Jayaswal very beautiful, Aparna ji.
      Monday at 12:15pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Niranjna ji..
      Monday at 12:16pm · 
    • Aparna Khare thanks Rajiv ji
      Monday at 12:16pm · 
    • Gunjan Agrawal ohh nice... very well said....
      Monday at 12:17pm ·  ·  1 person
    • Rajani Bhardwaj शाम होते ही मेरी यादो के

      तकिये पे तुम्हारा सर रखना.............. bhut hi khoobsoorat ahsas
      Monday at 12:18pm ·  ·  1 person
    • wah ji wah
      Monday at 12:18pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Rajni ji..
      Monday at 12:21pm · 
    • Aparna Khare Thanks Sushil ji
      Monday at 12:21pm · 
    • Manoj Gupta Gazab! Behad umda rachna
      Monday at 12:26pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Manoj ji
      Monday at 12:27pm · 
    • Amit Gaur very nice written...Aparna ji, thnx for the tag.
      Monday at 12:28pm ·  ·  1 person
    • Manoj Gupta तेरे दो चंचल मुग्ध नयन
      जब शर्मा कर झुक जाते हैं
      मन के आँगन में सपनों के
      तब फूल खिल जाते हैं

      लगती उर्वशी या रंभा हो
      प्रिय तुम मेरी कविता हो

      लहराते आँचल को जब तुम
      बाहों में बाँधकर चलती हो
      तब इन्द्रधनुष भी संग तेरे
      चलने को जैसे मचलता हो

      मादक सी मस्त हवा हो तुम
      प्रिय तुम मेरी कविता हो

      बिखरी ज़ुल्फ़ों के बीच कभी
      मुख चाँद सा तेरा दिखता है
      लगता है घने बादलों से
      कोई चाँद झाँकता है

      तुम तो प्यार की भाषा हो
      प्रिय तुम मेरी कविता हो

      तेरे पायल की रुनझुन जब
      मन के सितार पर बजती है
      मन मतवाला हो उठता है
      जब गीत कोई तुम गाती हो

      प्यार का मीठा झरना हो
      प्रिय तुम मेरी कविता हो

      तन मन की सारी थकन प्रिय
      बस पल में ही मिट जाती है
      जब मुस्काकर कुछ शर्माकर
      तुम प्यार की बातें करती हो

      जीवन की प्रिय तुम आशा हो
      प्रिय तुम मेरी कविता हो
      Monday at 12:28pm ·  ·  5 people
    • Aparna Khare waah thanks Manoj ji....
      Monday at 12:29pm ·  ·  1 person
    • Shamim Farooqui Waah bahut hi khoob hai Manoj.
      Monday at 12:41pm ·  ·  2 people
    • Suman Mishra प्यार का नशा ,,,,अजीब ही है,,,,सब कुछ बस उसीका है,,,बहुत sunder,
      Monday at 1:01pm ·  ·  3 people
    • Aparna Khare thanks Suman...pyar ke nashe ke age sare nashe bekaar hain..
      Monday at 1:01pm · 
    • Parveen Kathuria pyari rachna....
      Monday at 1:14pm ·  ·  2 people
    • Aparna Khare thanks Parveen Kathuria ji
      Monday at 1:17pm ·  ·  1 person
    • Nitesh Kumar very nice...
      Monday at 1:22pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Nitesh ji
      Monday at 1:24pm ·  ·  1 person
    • Muneer Ahamed Momin badhiya......Aparna ji....
      Monday at 2:29pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Muneer ji
      Monday at 2:29pm ·  ·  1 person
    • Ashish Tandon बहुत सुंदर रचना अपर्णा जी
      Monday at 3:05pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Ashish ji
      Monday at 3:06pm ·  ·  1 person
    • Maya Mrig याद---कि जैसे खुद को खुद से छीनकर दूसरे को सौंप देना---
      Monday at 3:23pm ·  ·  2 people
    • Aparna Khare thanks Sir....
      Monday at 3:24pm ·  ·  1 person
    • Mutha Rakesh sunder !!
      Monday at 4:14pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Mutha sir
      Monday at 4:16pm · 
    • Naresh Matia bahut khoob...ek achchhi muskrati....komal si rachna.....
      तुम हो तो सब हैं..
      तुम प्राण हो, आधार हो,
      प्रिय तुम तो मेरा प्यार हो...
      ..............
      Monday at 6:58pm ·  ·  2 people
    • Jitendra Pandey अत्यन्त सुन्दर ।
      Monday at 9:00pm ·  ·  1 person
    • Chitra Rathore bahut khoobsurat ...shabdon main piroyaa hai Aparna ji aapney apnee rachna ko...
      waqt ney kuch...haseen ...yaaden di hain...
      dhadkan ban...dhadkey jo dil main...
      aisee kuch dilkash sugaatey di hain...
      Monday at 9:18pm ·  ·  4 people
    • बहुत सुंदर !!!
      Monday at 9:21pm ·  ·  1 person
    • Shamim Farooqui Waah bahut khoob Aparna Khare.
      Monday at 10:02pm ·  ·  1 person
    • Meenu Kathuria वाह बहुत खूब........तुम हो तो सब हैं..
      तुम प्राण हो, आधार हो,
      प्रिय तुम तो मेरा प्यार हो.............मेरे जीने का आधार हो .........
      Monday at 10:29pm ·  ·  3 people
    • Poonam Matia तुम्हारे होने मात्र से चाँदनी ठिठाकति हैं...
      तुम हो तो सब हैं..
      तुम प्राण हो, आधार हो,
      प्रिय तुम तो मेरा प्यार हो..// beautiful lines Aparna .
      Monday at 11:51pm ·  ·  2 people
    • किरण आर्य तुम हो तो सब हैं..

      तुम प्राण हो, आधार हो,

      प्रिय तुम तो मेरा प्यार हो...

      Pyari mitr bhaut hi sunder bhav, ek khoobsurat rachna.............:))
      Tuesday at 9:51am ·  ·  2 people
    • Rahim Khan aprana ji aap ki rachnao ke saath photo selection aap ki baat me chaar chand laga deta hain....................ye pranay sambandhio pare aadhaarit rachna hain..............................
      Tuesday at 9:37pm ·  ·  1 person
    • Gopal Krishna Shukla संपूर्ण समर्पण की पूर्ण अभिव्यक्ति..... बहुत खूब... वाह अपर्णा जी
      Tuesday at 10:36pm ·  ·  2 people


0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home