Wednesday, October 12, 2011

साथी हो मन मुताबिक तो


साथी हो मन मुताबिक तो
उड़ान आसान हो जाया करती हैं
वरना तो जिंदगी की दुश्वरिया
"और भी "बढ़ जाया करती हैं
खुद के साथ जीना अच्छा हैं
लेकिन खुद को खुद मे ढूँढ पाना 
कहाँ मुमकिन हैं...
ये तो आपका साथी ही 
बता सकता हैं
कितने मोड़ तय किए, 
कितने बाकी हैं?
कहाँ खुद को छोड़ा था, 
कहाँ से पकड़ा हैं..
हम तो कहीं खो से जाते हैं...
साथी ही खोज लाता हैं
तभी साथी का होना 
आज भी
प्रासंगिक लगता है...........  .

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home