Monday, October 10, 2011

खाली मकान तेरे लिए उम्र भर यू मैने रहने दिया


ना किसी को पनाह दी
ना किसी को बसने दिया
तेरे जाने के बाद मैने
मकान को खाली रहने दिया
तू था तो घर मेरा गुलज़ार था
हम थे, तुम थे, 
और हमारा प्यार था
प्यार को मैने सदा यू ही
बस बहने दिया.....
तेरे जाने के बाद मैने 
मकान को खाली रहने दिया
तेरा समर्पण तेरा प्यार
आज भी मेरी आँखे नम कर जाता हैं
कभी कभी तू आकर सामने मेरी 
सांसो को रोक जाता हैं
मज़बूरियो ने साथ यू 
हमे रहने ना दिया
फिर भी दिल के ज़ज्बात को 
मैने नही मरने दिया
उम्र भर.... दिल का मकान मैने 
खाली रहने दिया......
आ भी बस एक बार 
देख ले दिल का दरबार
अब भी सजा हैं तेरे लिए
चाँदनी रातों मे, 
हाथों को लिए हाथों मे
हम यू ही बैठे रहे
साथ जिए साथ मरे
बस यू बढ़ते रहे
मुझे सब याद हैं, 
जो तूने मुझको दिया
खाली मकान तेरे लिए 
उम्र भर यू मैने रहने दिया
हाल बेहाल किए बैठे हैं...हम तो सिर्फ़ तुमसे प्यार किए बैठे हैं

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home