Monday, October 17, 2011

एक कठिन किताब




नारी का अंतर्मन
एक कठिन किताब
जैसा होता हैं
उसे पढ़ कर, समझ पाना 
सबके बस की बात नही होता हैं
बाहर से वो जितनी नाज़ुक
नज़र आती हैं
भीतर वो उतनी ही 
गहराती जाती हैं
दुख को कैसे पीना हैं 
तन पे गमो का बोझ लिए
कैसे जीना हैं????????
उसे सब अच्छी तरह आता हैं
बाटती नही अपने दुख को
चुपचाप पी जाती हैं
तभी तो नारी आज भी
देवी कहलाती हैं
पति का कोपभाजन हो
या बच्चो का विभाजन
कभी विरोध नही करती
यहाँ तक की, पति के साथ साथ
समाज से मिले दुख भी सह लेती हैं
पाषण सा हृदय लेकर दुनिया मे आती हैं और 
मंदिर की मूर्ति की तरह 
धूप बारिश सर्दी सब मे मुस्काती हैं
लेकिन जब एक बार
विरोध पर आती हैं तो 
यमराज़ से भी भिड़ जाती हैं
छीन लाती हैं सावित्री की तरह
अपना पति और पतिव्रता कहाती हैं
वक़्त पड़े तो लक्ष्मी बाई बन 
अंग्रेज़ो के छक्के भी छुड़ाती हैं
जीतती हैं दोनो मुहिम
चाहे वो घर हो या रण
तभी तो नारी श्रद्धा कहाती हैं...............

    • Ashvani Sharma nice one
      Monday at 1:48pm ·  ·  1 person
    • Dev Rokadia ज्ञानवर्धक .....
      Monday at 1:48pm ·  ·  2 people
    • Aparna Khare thanks Asvani ji
      Monday at 1:49pm · 
    • Aparna Khare thanks Dev ji
      Monday at 1:49pm ·  ·  1 person
    • Vishaal Charchchit नारी मन की डिटेल तो आपकी कविता की साइज़ से ही पता चल जाता है अपर्णा जी.........वैसे लिखा आपने बहुत मन से है................काश ऐसी ही एक रचना कभी पुरुष मन पर भी लिखती आप !!!!
      Monday at 1:54pm ·  ·  2 people
    • Aparna Khare purush man ko kaise padh paungi....phir bhi I will try...thanks
      Monday at 1:55pm ·  ·  2 people
    • Suman Mishra APARNAA DI,,,REALLY BAHUT ACHHA LAGAA PADH KAR...SUNDER BHAAV, SPASHTVAADITAA SEY PRAKHAR,,,,LEKHAN,,
      Monday at 2:02pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Suman...
      Monday at 2:03pm ·  ·  1 person
    • Prateek Shesh भूली बिसरी चंद उम्मीदे चंद फ़साने याद आये
      Monday at 2:06pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare तुमने किए थे हमसे जो वादे ....सब के सब वापिस आए...
      Monday at 2:08pm · 
    • Prateek Shesh तुम याद आये और तुम्हारे साथ जमाने याद आये
      Monday at 2:08pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare कल रात
      याद आई
      तुम्हारी एक बात
      ‍ कि अब कभी नहीं बिछड़ेंगे,
      और कल ही रात
      याद आया मुझे
      तुम्हारा तीखा स्वर
      अब कभी मत मिलना मुझे।
      Monday at 2:10pm ·  ·  2 people
    • Prateek Shesh जेब दिखी खाली तो पैसे कमाने याद आये
      Monday at 2:10pm · 
    • Aparna Khare कल रात
      एक वादा, मैंने भी किया रात से
      जब तुम आओगी तो
      नहीं याद करूँगी किसी को,
      पर कल रात,
      रात बैठी रही खामोश
      और करती रही याद
      मेरे साथ किसी को।
      Monday at 2:10pm ·  ·  6 people
    • Krishan Yadav · Friends with Manju Gupta
      Maine usko

      tapte dekha

      aag jaisa jalte dekha

      lohe jaisa dhalte dekha

      maine usko goli jaisa chalte dekha
      Monday at 2:11pm ·  ·  2 people
    • Manoj Gupta Wah , bahut hi achcha varnan hai , badhaii:

      नारी
      अशक हूं
      वक्त की पलकों पर टिकी हूं
      लहर हूं
      सागर की बाहों में थमी हूं
      शबनम हूं
      ज़मीं के आगोश में बसी हूं
      चिंगारी हूं
      शोला बन कर भड़की हूं
      किरण हूं
      सूरज में समाई हूं
      लता हूं
      तन के सहारे बढ़ी हूं
      नदी हूं
      कगार के बँधन में बँधी हूं
      फूल हूं
      काँटों से उलझी हूं
      कोमल हूं
      रुई के फाहों से सहेजी जाती हूं
      धरती हूं
      अंबर के चँदोबे तले फली फूली हूं
      अबला हूं
      पुरुष की संरक्षता में रहती हूं
      नारी हूं
      पुरुष व पुरुषार्थ की जन्मदात्री हूं.
      Monday at 2:40pm ·  ·  1 person
    • Rajiv Jayaswal the inner feelings , weaknesses and powers of women , beautifully defined.
      Monday at 2:48pm ·  ·  1 person
    • Manoj Kumar Bhattoa very true....well said.
      Monday at 2:50pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare sahi hain....Krishn yadav ji
      Monday at 2:53pm · 
    • Aparna Khare hamesha ki tarah behtareen..Manoj ji
      Monday at 2:53pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Rajiv ji
      Monday at 2:53pm · 
    • Aparna Khare thanks Manoj ji
      Monday at 2:53pm · 
    • Maya Mrig नारी मन के पन्‍ने पलटने की कोशिश अच्‍छी लगी---
      Monday at 2:58pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Maya Sir
      Monday at 2:59pm ·  ·  1 person
    • Aameen Khan Naari ke antarman ki bahut hi badhiya details aapne likhi hai.
      Monday at 3:23pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Aameen ji
      Monday at 6:53pm ·  ·  1 person
    • Alam Khursheed Bahot Khoob!
      Monday at 7:54pm ·  ·  1 person
    • Gunjan Agrawal behad gazab ka likha hai aapne Aaparna.... saachi... gazabbb ka
      Monday at 8:48pm ·  ·  1 person
    • Rajendra Goel Nari-bala, abla, sabla=Gajab ki kalaa.
      Monday at 9:33pm ·  ·  1 person
    • Rajani Bhardwaj नारी का अंतर्मन
      एक कठिन किताब.................jo na samjhe use to farsi lgti h
      Monday at 10:35pm ·  ·  1 person
    • Naresh Matia course ki ek kitab ko samjhne ke liye logo ko pataa nahi...kitni baar padhna padhta hain....aap to human nature wo bhi female ko padhne ki bat kar rahi ho...jahaa har kissa hi ek kitaab hota hain.....aur uske andar pataa nahi kitne chapter.....to kaise koi samjh paayega....
      Monday at 11:43pm ·  ·  1 person
    • Kamal Kumar Nagal jeewan hi kathin kitab ka hi roop he...woman ki life & man ki life apni apni jagah rah ki kathin dagar he...
      Tuesday at 1:47pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Rajni ji
      Tuesday at 2:59pm · 
    • Aparna Khare thanks Kamal Kumar Nagal ji
      Tuesday at 3:00pm · 
    • Aparna Khare thanks Naresh ji..
      Tuesday at 3:00pm · 
    • Aparna Khare thanks Alam ji
      Tuesday at 3:00pm · 
    • Aparna Khare thanks gunjan ji n rajendra ji
      Tuesday at 3:00pm · 
    • Kashish Arora true
      Tuesday at 10:41pm · 
    • Gopal Krishna Shukla वाह अपर्णा जी वाह.... नारी की व्याख्या करना कठिन कार्य है.. क्योकि नारी स्वयं में एक सम्पूर्ण संसार है...

      मै इतना ही कहूँगा की.....

      सम्मान जहाँ पाती है नारी-प्रतिभा जन-जीवन में
      संस्कृति की लता पनपती उस धरती के उपवन में|
      Tuesday at 10:55pm · 
    • Matia Poonam बहुत सुंदर चित्रण .....नारी मन की कथा और व्यथा का ......पर शायद यही सब पुरुष के मन की भी कहानी है .........जो अभी कहनी सुनानी बाकी है .......:)))
      Yesterday at 1:20am ·  ·  1 person
    • Rahim Khan aap ne nari ke dard auruske man ki pida ko bahut achhi tarahlikha hain
      20 hours ago ·  ·  1 person


0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home