Tuesday, November 1, 2011


आज कोई खो गया हैं
अब नही वो मिल रहा हैं
कैसी ये खोज हैं
मन मे ना कोई ओज हैं
चारो तरफ कैसा धुआँ हैं
लग नही अब मन रहा हैं
सोचा तुमसे बाँट लू
जी को कुछ हल्का करू
कोई नही अब सिरा हैं
कैसे खोजू बस तू ये बता हैं
कुछ तो कर अब मदद तू...
तेरा ही तो सब किया है
रूठ कर कोई गया हैं
अब नही वो मिल रहा हैं
आज कोई खो गया हैं
वो तो बस मेरा जिया हैं...

    • Prem Lata mumkin ho sakta hai unka laut aana
      November 3 at 5:25pm ·  ·  1
    • Aparna Khare kaash aisa ho pata....jane wala laut ata
      November 3 at 5:25pm · 
    • Kiran Arya oye yaara tu pahuch gai vapis?????????????
      November 3 at 5:30pm ·  ·  4
    • Nirmal Paneri चारो तरफ कैसा धुआँ हैं
      लग नही अब मन रहा हैं
      सोचा तुमसे बाँट लू
      जी को कुछ हल्का करू
      कोई नही अब सिरा हैं
      कैसे खोजू बस तू ये बता हैं!!!!!!!!!!
      November 3 at 5:30pm ·  ·  2
    • Kiran Arya Sunder bhav mitr............dil ko sambhal kar rakho mitr yeh bada chanchal hota hai, gar kho gaya to us sang apna vajood na kho do tum.............
      November 3 at 5:32pm ·  ·  2
    • Vishaal Charchchit ‎----------------
      रूठ करके जो गया है आएगा वापस जरूर
      आपका निःस्वार्थ प्रेम खींच लाएगा जरूर,
      कम बहुत हैं आजकल कद्र करने वाले लोग
      दूर वो भी आपसे जा के पछतायेगा जरूर...
      -------------------------------------------
      November 3 at 5:41pm ·  ·  1
    • Kiran Arya Vishaal bahut achche...................
      November 3 at 5:51pm ·  ·  1
    • Om Prakash Nautiyal ‎*
      "..तेरा ही तो सब किया है
      रूठ कर कोई गया हैं
      अब नही वो मिल रहा हैं
      आज कोई खो गया हैं.."
      बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति !!!बधाई !!!
      *
      November 3 at 6:14pm · 
    • Rajani Bhardwaj jane kanha mera mn kho gya ...........bhut hi komak sa ahsas
      November 3 at 7:17pm · 
    • Maya Mrig लौट आएगा......जहाज के पंछी जहाज पर ही लौटते हैं.....
      November 3 at 8:03pm ·  ·  1
    • Shamim Farooqui Waah bahut khubsurat ehsaas Aparna Khare..jise baRi saadgi aur khubsurti se pesh kiya hai...!
      November 3 at 8:55pm · 
    • Gunjan Agrawal humm.... nice one
      November 3 at 8:57pm · 
    • Parveen Kathuria nice one..
      November 3 at 9:19pm · 
    • Madan Soni लौट आएगा......जहाज के पंछी जहाज पर ही लौटते हैं.....

      घायल पंछी ......
      लोटना तो बहुत चाहता है मगर ........
      पंख नोच लिए गए है सब ने धोखे से ...
      प्यार से दाना डालते थे जो ......
      पंछी ....अकेला पंछी ........
      उन क्रूर आँखों को अपने दिल से
      खुश तो कर सकता था मगर .......
      पंछी ....अकेला पंछी .........
      क्या करता ....???
      अपनों ने ही लूटा .....???
      लूटा आया अपने सपनीले " पर " ..
      लूटा आया सबको.अपने कहे अनकहे सपने .............
      कुछ न बोला .....कुछ न कहा ...
      बस ...........रोते चहरे पर......
      उसके हाल पर तरसती मुस्कान लिए .........
      अट्टहास करती यादों को लिए......
      मुझे मालूम है ......
      पंछी लोटेगा जरूर ........
      मगर पंछी बनकर नहीं .....
      सिर्फ .........और .....सिर्फ .....
      "यादें "बनके >>>????????????????
      November 3 at 9:29pm ·  ·  1
    • Suman Mishra आज कल ...आप.....बहुत मार्मिक लिख रहे हो...
      November 3 at 10:03pm ·  ·  1
    • Madan Soni मर्म ही बचा है ........................
      November 3 at 10:07pm ·  ·  2
    • Nitesh Kumar nice one...
      November 3 at 10:28pm · 
    • Kamal Kumar Nagal aaj kal apne hi kho rahe aparna ji...
      November 3 at 10:31pm · 
    • Madan Soni आज फिर कोई रो रहा हैं

      अब नही है वो चिल्लाता

      कैसा ये रुदन है

      हर तरफ फैला धुआँ हैं

      दिखाई नहीं देता

      सोचा अँधेरे में सब को ढूंढ़ लूं

      जी को तसल्ली दे लूं

      कोई नही अब सिरा हैं

      कैसे जीऊँ बस तू ये बता

      कुछ तो कर अब मदद तू...

      उसका ही तो सब किया है

      रूठ कर कोई छिप गया हैं

      अब नही वो मिल रहा हैं

      आज फिर कोई रो रहा है .......
      November 3 at 10:41pm · 
    • Madan Soni हाँ कुछ ऐसा ही होता है, क्या ये सच है बोलो तो ?

      मन ही मन का दुश्मन बनता -क्या ये सच है बोलो तो ?

      मन ही मन से द्वन्द है करता -क्या ये सच है बोलो तो ?

      उसके दुःख में खुद को पाता -क्या ये सच है बोलो तो ?

      कभी कभी मन पत्थर बन खुद को ठुकरा देता है यूँ,

      चलो हटो अब परे ही रहना , बात ना करना मुझसे तुम,

      मन ही मन को समझाता है , क्या कहते हो सोचो तो,

      मन ही मन को डांट लगाता , कहता मन को रोको तो,

      कभी कभी मन चलता पीछे उन अतीत के आज को मान

      नहीं भूलता बीते पल को ,मन को ठगता सच को जान,

      क्या लौटेंगे बीते पल या , चला गया वो आयेगा ?

      क्या मन को मन देके दिलासा सच को समझा पायेगा ?

      कोई नहीं समझ पाया मन ये तिलस्म में बंटता है

      इश्वर को दे धोखा मानव खुद को हरदम छलता है,

      मन से प्यार बढ़ा कर फिर वो प्यार अधूरा रखता है,

      नहीं पूर्ण वो कर सकता मन ,खुद ही मन से डरता है

      हमने तो इतना जाना है बस खुद से ही प्यार करो,

      स्नेह दुलार के भागी बनकर, मन का खुद सत्कार करो.

      जो है दूर उसे तुम खींचो , प्रेम डोर ना छोटी हो,
      मन के तारों से झंकृत मन, मन ही मन सरगोशी हो.

      ऐसा भी क्या जीवन में हरदम यूँ बंध कर रहना है,

      मीत नहीं पर , गीत बहुत हैं सुर लहरी में बहना है,

      ये बहाव जो प्रबल मधुर सब इसी मोह में आयेंगे,,,

      पर कुछ बाकी खाली पन्ने कभी नहीं भर पायेंगे,,

      और बड़ी मेहनत से जो पन्नो पर उकेरा ....
      उन्होंने पानी गिरा दिया .......धो दिया ....
      उन अनकहे पन्नो का क्या ??????
      November 3 at 10:48pm ·  ·  1
    • Suman Mishra MEREE KAVITAA AAP ....HAA HA HA
      November 3 at 10:59pm ·  ·  1
    • Suman Mishra THANKS.....FOR COPY
      November 3 at 11:00pm ·  ·  1
    • Madan Soni आखरी लाइन ??????
      November 3 at 11:01pm · 
    • Suman Mishra jahaan saagar ka jal...wahaan do chaar boondein,,,,
      November 3 at 11:08pm · 
    • Madan Soni हाँ जहर भरी ...ईर्ष्या भरी ..............TO
      November 3 at 11:09pm ·  ·  1
    • Suman Mishra saagar ke jal main poison,,,,ki visaat naheen
      November 3 at 11:10pm · 
    • Madan Soni हाँ मगर अलग वजूद ....KABHI दवा का काम भी करता हो ??
      November 3 at 11:12pm · 
    • Suman Mishra alag hokar koi vajood bana paayaa hai,,,,logo ki tavajjo se vajood bantaa hai,,,,khud par faith hona chahiye
      November 3 at 11:13pm · 
    • Madan Soni TO FIR SAMJHAO SAB KO ..............SHAYAD VOSAB BHI IS BHEED ME HO..............
      November 3 at 11:15pm · 
    • Suman Mishra pahle mujhe to sab samjh lein,,,,,
      November 3 at 11:17pm · 
    • Suman Mishra मदन जी कर्म करना हमारा काम है,,,समझाने वाला वो ऊपर वाला है...
      November 3 at 11:31pm ·  ·  1
    • Madan Soni हा हा हा ...इतना कमजोर भी मत समझो .......
      November 3 at 11:34pm · 
    • Suman Mishra कोई किसी को कमजोर नहीं समझता,,,ये आप खुद बोल रहे हैं,,,,
      November 3 at 11:35pm · 
    • Suman Mishra हाँ ऊपर वाले से टक्कर,,,,,,,नेवर,,,,,
      November 3 at 11:35pm ·  ·  1
    • Madan Soni ARPANA DEE SAMAJH SAKTI HAI MUJHE ..
      November 3 at 11:36pm ·  ·  1
    • Suman Mishra may be
      November 3 at 11:36pm · 
    • Madan Soni हाँ शायद .....
      November 3 at 11:37pm ·  ·  1
    • Madan Soni अच्छा बहन JEEEEEE मैं चला...... शुभ रात्रि
      November 3 at 11:38pm ·  ·  2
    • Gopal Krishna Shukla ‎.
      आज कोई खो गया हैं
      वो तो बस मेरा जिया हैं...

      वाह.. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति अपर्णा जी
      November 3 at 11:52pm ·  ·  2
    • Naresh Matia wah ji...bahut khoob....yeh man bhi badi cheej hain...idhar-udhar hi milta hai...jab khush hua to kisi ke paas chal diya..jab udas hua to kisi aur ke paas mila...aur jab rootha tab bhi kisi aur ke paas hi jakar mila....pataa nahi kya cheej hain yeh man...
      November 4 at 12:00am ·  ·  1
    • Alam Khursheed ‎-----------
      Waaaaaaaaaaah Aparana Ji !
      _____________________________________
      हमेशा दिल में रहता है कभी गोया नहीं जाता
      जिसे पाया नहीं जाता , उसे खोया नहीं जाता
      November 4 at 9:50am ·  ·  1
    • दिनेश मिश्र सुंदर अभिव्यक्ति, सच कहा आपने ..............!!
      November 4 at 9:56am ·  ·  1
    • Chitra Rathore khoobsurat ...bhaav Aparna ji...
      November 5 at 10:00pm ·  ·  1


0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home