Monday, October 24, 2011




मेरा मॅन का आँगन सूना 
तुम आ कर दीप जला देना
मैं काली रात अमावस
तुम उजियारा कर देना
तुम ठहरे चंदा से उज्जवल
मुझको शीतल कर देना
मैने ओढी रात की चादर
तुम अंधेरा मिटा जाना

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home