Wednesday, November 9, 2011

बेचैन सफ़र


तुमने मुझसे माँगे हैं 
उत्तर के भी प्रतियुत्तर
हाँ तुम मुझे धरती ही मानते रहे
और रखते गये मुझ पर 
अपने मान का बोझ
और मैं भी बस मूक हो सहती रही..
तुम्हारा, हमारा और सबका भार
माना धरती और आकाश भी कही मिलते हैं
लेकिन हम वो क्षितिज का किनारा नही ढूँढ सके
और रह गये बिना मिले
समानुपात का नियम भी नही लाद पाई तुम पर
क्यूंकी तुम तो बहुत बड़े थे मुझसे
हाँ अनुपात के सवाल
ज़रूर हल किए जा सकते थे
मुझमे अब कोई प्यास भी ना रही..
इस उम्र मे नया जहाँ बसा नही सकती
और तुम्हे भी दिल से भुला नही सकती
बीच दोराहे पे ला दिया हैं तुमने
सवाल भी तुम्हारे 
जवाब भी तुम्हारे
मेरा हैं क्या?
मैने भी तुम्हारे साथ
पूरा आकाश नापा हैं
धरती को कई बार चूमा हैं
अच्छे और बुरे समय मे 
तुम्हे अपना साथ दिया हैं
आज तुम मेरी खामोशी को आवाज़
नही दे पा रहे हो
क्या हो गया हैं तुम्हे
उठो, जागो और फिर से मुझे महसूस करो
तुम्हारा बेचैन सफ़र थम जाएगा
और मुझे भी चैन आ जाएगा



    • Vijaya Bhargava KYA BAAT HAI ..................MAIN AAP KI TAARIF KAR RAHI HUN ...
      November 11 at 11:53am ·  ·  2
    • Aparna Khare thanks Vijaya ji
      November 11 at 11:54am · 
    • Vijaya Bhargava ARE YAAR I M PROUD OF U .
      November 11 at 11:59am ·  ·  1
    • Suman Mishra मन की तरह रचना खूबसूरत ///मन के भाव उकेरने मैं आपका जबाब naheen
      November 11 at 12:21pm ·  ·  2
    • Amitabh Agnihotri bahut sundar,,,...
      November 11 at 12:38pm ·  ·  1
    • Rajiv Jayaswal bahut khub, Aparna ji.
      November 11 at 12:45pm ·  ·  1
    • Aparna Khare Thanks Vijaya Bhargava ji
      November 11 at 1:44pm · 
    • Aparna Khare thanks Suman Mishra...sab sangat ka asar hain
      November 11 at 1:44pm · 
    • Aparna Khare Thanks Amitabh Agnihotri ji
      November 11 at 1:44pm · 
    • Aparna Khare Thanks Rajiv ji
      November 11 at 1:45pm · 
    • Rajani Bhardwaj bhut achchhi si............
      November 11 at 2:41pm ·  ·  1
    • Aparna Khare thanks Rajni ji
      November 11 at 2:41pm · 
    • Akhilesh Sharma बहुत ही सुन्दर.....Aparna खरे जी.....अजनबी बन के जो गुजरा है अभी......था किसी वक़्त में अपना.. लोगों ........!
      November 11 at 3:39pm ·  ·  1
    • Aparna Khare Dil se Abhaar Akhilesh Sharma ji
      November 11 at 3:40pm · 
    • Maya Mrig हाँ तुम मुझे धरती ही मानते रहे
      और रखते गये मुझ पर
      अपने मान का बोझ
      और मैं भी बस मूक हो सहती रही.......प्रभावी पंक्तियां
      November 11 at 4:27pm ·  ·  2
    • Aparna Khare thanks Maya Sir..hausala afjai ka shukriya....
      November 11 at 4:28pm ·  ·  1
    • Samvedna Duggal aur samanupaat ka niyam bhi nahin laad paayee tum par.....aparnaji..bheetar ka sachh aapne jis tarah kahaa hai ..veh prashansniy hai.....
      November 11 at 4:42pm ·  ·  2
    • Aparna Khare thanks Samvedna Duggal ji
      November 11 at 4:43pm · 
    • Gopal Krishna Shukla ख़ूबसूरत रचना अपर्णा जी.....
      November 11 at 5:48pm ·  ·  1
    • Shamim Farooqui Waah Aparna Khare..bahut khoob.
      November 11 at 7:18pm ·  ·  1
    • Naresh Matia shikayat bhare lahje mei ek achchi rachna.....
      सवाल भी तुम्हारे
      जवाब भी तुम्हारे
      मेरा हैं क्या?
      मैने भी तुम्हारे साथ
      पूरा आकाश नापा हैं
      धरती को कई बार चूमा हैं
      अच्छे और बुरे समय मे
      तुम्हे अपना साथ दिया हैं..........
      sirf ek tarfa dekhne wale chshme se...jab likha jata hain to...yehi lagta hain ki...sirf mai hi sahi...sirf maine hi yeh kiya........
      November 11 at 7:40pm ·  ·  2
    • Lokmitra Gautam bahut hi sundar aapki lekhni man moh liya .................salam
      November 11 at 8:25pm · 
    • Rahim Khan AAP NE BADI SHUDH HINDI UPYOG KIYA HAIN.........GOOD ONE
      November 11 at 9:34pm ·  ·  1
    • Meenu Kathuria हाँ तुम मुझे धरती ही मानते रहे
      और रखते गये मुझ पर
      अपने मान का बोझ
      और मैं भी बस मूक हो सहती रही..........वाह अपर्णा दिल की बात कहने का एक खूबसूरत तरीका..............
      November 11 at 10:22pm ·  ·  3
    • Ashvani Sharma बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति अपर्णा जी
      November 11 at 11:04pm ·  ·  1
    • Parveen Kathuria wah...kya baat hai
      November 11 at 11:28pm ·  ·  2
    • Aparna Khare Thanks parveen ji
      November 11 at 11:38pm · 
    • Aparna Khare Thanks parveen ji
      November 11 at 11:39pm · 
    • Aparna Khare Thanks ashvani ji apne pasand kiya
      November 11 at 11:39pm · 
    • Aparna Khare Thanks meenu bhabhi
      November 11 at 11:40pm · 
    • Aparna Khare Thanks lokmitra ji.apko rachna pasand ayi
      November 11 at 11:42pm · 
    • Aparna Khare thanks Rahim ji, Naresh ji, Shamim ji n Gopal ji
      November 12 at 11:40am · 
    • Vikas Maan mast & no word Aepana ji.......Dil ki baat wo bhi dilkush Andaz men........kya baat hai....Dil bag-2 ho gya ye lines padhke.......very-2 nice ur collection.....
      November 12 at 12:59pm ·  ·  1
    • Aparna Khare thanks Vikash ji...hausala badhane ka..
      November 12 at 1:00pm ·  ·  1
    • Kiran Arya अच्छे और बुरे समय मे
      तुम्हे अपना साथ दिया हैं
      आज तुम मेरी खामोशी को आवाज़
      नही दे पा रहे हो
      क्या हो गया हैं तुम्हे
      उठो, जागो और फिर से मुझे महसूस करो
      तुम्हारा बेचैन सफ़र थम जाएगा
      और मुझे भी चैन आ जाएगा..........waaaaaaaaaaah dear........khoobsurat bhav............:))
      November 12 at 4:05pm ·  ·  2
    • Aparna Khare thanks Kiran Arya
      November 12 at 4:06pm ·  ·  1
    • Chitra Rathore Aparna ji...sunder bhaav prastuti...saath-saath hokar saath ki lalak...aur...judaa hokar bhi ...ek ummeed...!!!
      November 12 at 8:18pm ·  ·  2
    • Vishaal Charchchit HAMAARI BHI IESHWAR SE YAHI DUA HAI........TEACHER JI RACHNA BAHUTA ACHCHHI HAI........DIL TAK PAHUNCHNE WALI...........!!!
      November 12 at 8:53pm · 

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home