Wednesday, May 9, 2012

पिया मिलन


मेरे जाने के बाद... मेरे प्रिय
मुझे यू ही ना विदा करना
करना मेरे पूरा श्रिन्गार,
रूप से मुझे यू भरना..............
जैसे हो रहा हो मेरा प्रिय से मिलन
मुझमे यू सब कुछ करना............
भर देना मेरी माँग, अजर सुहागन लगु
लगा के माथे पे बिंदिया, पूरा सज़ा देना
पायल, बिछिया, मंगल सूत्र, सब पहना देना
करके सोलह श्रिगार तब मुझे विदा करना
रह ना जाए कोई कमी, सब कुछ मुझे देना
किया हैं जीवन भर प्रियतम से प्यार
आज मिलने का मौका आया हैं
क्यूँ रोते हो मेरे लिए..
आज मुझमे वो समाया हैं
होगा मिलन आज मेरा और उसका
बरसो जिसने मुझे तरसाया हैं
सच बहुत खुश हूँ मैं
ना कोई रोको मुझे
खुश होकर करो विदा
पिया से जुदा होकर इतने
बसंत मैने कैसे काटे हैं
पल पल किया याद उसे
जुदा होकर ना एक पल रह पाते हैं
आज होगा मिलन....चिर मिलन.....

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home