Monday, May 7, 2012

छा गया सन्नाटा अम्मा के जाते ही..
समझ नहीं आ रहा था ये क्या हो गया

जो बुढ़िया मरने से पहले सब पे बोझ थी
अचानक सब की प्यारी हो गई

आज अम्मा की तपस्या सब को याद आ रही थी
वो बर्तन माँज कर बच्चे को लायक बनाना
सबको अम्मा का समर्पण आज ही क्यूँ समझ आ रहा था?
शायद जाने के बाद ही इन्सान की कदर होती  हैं

वरना कब दुनिया किसी  के लिए रोती हैं...


0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home