Wednesday, August 29, 2012


कल जब तुमने पूछा भोलेपन से
क्या कभी किसी से प्यार किया हैं
मैने बोला इतरा के...
हां मैने प्यार किया हैं..
तुमने पूछा कैसा हैं वो?

मैने कहा भोला भाला, सुंदर मतवाला,
हर दम मेरा ख़याल रखने वाला,
दिल मे सीधे उतर जाने वाला
बिल्कुल मेरे जैसा हैं वो..
तुमने झपकाई पलके, तुम्हे विश्वास ही ना हुआ..
तुम बोले कुछ और तो बताओ..
अच्छा कोई उसकी बढ़िया क्वालिटी तो बताओ
मैने कहा करता हैं प्यार मुझसे इतना
आसमान मे सितारे हो जितना
झूठ नही हैं इसमे मेरी कोई बात
ना हो विश्वास तो कर लो उस से मुलाकात
अब तुम चकराये...
तुम्हे लगा कोई तो बात हैं
जो इसके जीवन मे खास हैं
इतनी खुनकी से प्यार करती हैं..
अपने प्यार पे दिन रात दम भरती हैं
अब तुमसे रहा ना गया..तुम बोले नाम तो बताओ..
मैने कहाँ भारतीय स्त्री जिस से प्यार करती हैं
उसका नाम ज़ुबान पे नही लाती हैं
सुना हैं ऐसा करने से प्रियतम की उम्र कम हो जाती हैं
चलो तुम्हे मिलवा देती हूँ..
तुम खुद जाँच लेना..जीतने नंबर समझ मे आए दे देना
तुम झट तैय्यर हो गये..
हम चले मिलने..तुम्हे खूब घुमाया, फिराया
आख़िर तक थकाया "ले आई आईने के पास"
बोली देखो यही हैं हमारे वो लाट साब"
आइ मीन खास..अब तुम्हारा चेहरा देखने लायक था..
सच तुम्हारा लाल चेहरा देख कर मुझसे रहा नही गया..
और मैं हंस पड़ी..

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home