Wednesday, September 26, 2012

तुम्हारे संग ...नौका विहार




उदास मन हैं तुम्हारा
ये क्या कह डाला..
मौजूद हूँ तुम्हारे आस पास
महसूस तो करो मुझे मेरे यार..
कितना अच्छा समा बनाया हैं..
चाँदी की नौका को .......तुम्हारे लिए....आधी रात मे
तुम्हारे संग ...नौका विहार को बुलाया हैं..
मत हो उदास अभी .....
देखो प्यार का मौसम..तुम संग
लौट आया हैं...

1 Comments:

At January 14, 2017 at 6:23 AM , Blogger DEEPENDRA SHUKLA said...

बहुत खूब...

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home