Thursday, October 11, 2012

My Shayaries...




तुम गये मुझे छोड़ कर मेरी दुनिया ही ले गये..
जीने का कुछ समान था..उस से भी हम गये..

ना चल मेरे साथ तू...चल नही तू पाएगा..
राह मे मेरी काँटे बहुत हैं.....चलना दुश्वार हो जाएगा..

बिछड़ के हमसे खुश नही रह पाते हो..
क्यूँ फिर रूठ कर हमसे..दूर चले जाते हो..

कौन कम्बख़्त चाहता हैं तुझे भूलना
तू तो मेरी जिंदगी का मक़सद हैं..

चलो अब बात करे....
कोई नई दुनिया इज़ाद करे..
जहा ना हो कोई सताने वाला..
हम अपनी अपनी बात करे..

हाथो मे तेरा हाथ...
क्या बात 
क्या बात 

रखता हैं जब वो तेरे दिल पे हाथ..
दर्द काफूर हो जाता हैं..
जैसे ही हटाता हैं हाथ....
दर्द फिर बढ़ जाता हैं....खुदा खैर करे..

खता गिन भी ली तो क्या करोगे..
माफ़ तो कर ही दोगे...रह कहाँ सकोगे..

रूठ भी गया तो कहाँ जाएगा...
थोड़ी देर घूम कर लौट आएगा..
चिंता ना करो प्यार मे दम हैं तुम्हारे.
तुम्हे छोड़ ज़्यादा देर रह नही पाएगा..

ishq me masumiyat ka alam dekho,
katl karte hai nazro se
ilzaam bhi nahi lete.

shaam ki madhoshi ka ye alam hai..doobta suraj bhi gazal lagta hai

maine jo phera mukh to, tumhara kya hoga toot ke barsega badal, alag si ye saza dega

sun tu ishq me mar mitne ko kehta hai, marke bhi kya koi azad hua hai ishq se

jab tune mujhe chaha to samajh aya hai, jane kitno ka janaja nikal aya hai

प्यार धोखा तो हैं..लेकिन बड़ा प्यारा हैं..
जिंदगी में जो न करे प्यार..वो बेचारा हैं..

मत रहो तन्हाई में..
कुछ नहीं हैं बेबसी के सिवा वहां..
रहना हैं तो किसी के दिल को अपना लो..
उम्र भर के लिए वहीँ डेरा जमा लो..

हटाया जो तुमने नकाब तो चेहरा दिखा हमें....
आंसुओं में भीगा हुआ...सहरा दिखा हमें..

dekho na holi pe tumse mile, diwali pe juda ho gaye, kismat ne bhi kaise kaise khel kiye.

ham khanabadosh hai, hamara kaha thikana hai, utar gaye jo dil me to, mushkil mera jana hai..

tum jano takraar ki batein, hame to pyar sanam bhata hai.

उनके दिल मे...उनकी मर्ज़ी के बगैर रहने से क्या होगा..
जब तक नही देखेंगे तेरी ओर..तेरा भला ना होगा..

तुम्हे पता हैं तुम अपराजिता हो..
कभी नही हारी तुम...
ना सागर से ना सागर की लहरो से..
ना सूरज से ना सूरज की किरनो से..
तुम्हारे दम से हैं रोशन ये दुनिया..

जो करते हैं सच्चा प्यार 
उन्हे कुछ कहना नही पड़ता
सुन लेते हैं दिल की सदा वो....
उन्हे यू कभी बुलाना नही पड़ता

प्रेम ki बात कर..तो
या तो सब मिलता हैं 
या कुछ भी हासिल नही होता...
इंसान रीता रह जाता हैं..

संग तराशते ही खुदा हो जाता हैं...
मिला लो जिसे अपने आप से..वो खुदा हो जाता हैं.

बचपन...प्लीज़ फिर से आ जाओ ना..
मुझे तुमसे बहुत सी बातें करनी हैं...
लड़ना हैं, झगड़ना हैं..खेलना हैं,......
हँसना हैं रोना हैं....सबसे प्यार करना हैं..
आ जाओ ना..प्लीज़ एक बार

गया जो उसके चरनो मे
सुकून पा गया..
जिंदगी का मक़सद मिला..
आराम आ गया..

नसीब किस्मत सब खेल हैं खुदा के..
जब जहाँ चाहता हैं...घुमा देता हैं..डोरी






0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home