Tuesday, February 19, 2013

लकीर का फकीर से भी होता होगा कोई ताल्लुक



लकीर का फकीर से भी 
होता होगा कोई ताल्लुक
तभी तो ये मुहावरा बना हैं 
लकीर के फकीर
लेकिन मुझे तो लगता हैं 
फकीर को लकीर की 
ज़रूरत ही कहाँ हैं...
वो आज पे जीता हैं..
कल पे कुछ नही रखता हैं..
फिर उसे ना किसी की चिंता
ना फिकर, रहता हैं अल्मस्त....
तभी तो ले पाता हैं 
असली जीने का मज़ा..
ईश्वर से नज़दीकी..
जो हम सब के नसीब मे कहाँ?
हम सब तो लकीर के मारे हैं..



0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home