Wednesday, May 8, 2013

जवाब के इंतज़ार मे..


उफ्फ तुम्हारे ये सवाल
बहुत तंग करते हैं
आज जबकि बरसो बाद
उन सवालों का 

कोई मायने ना रहा..
फिर भी जहन मे गड़ते हैं..
क्या करू कैसे छूटु 

इन सवालो की गिरप्त से..
आज जिंदगी बहुत 

आगे निकल आई हैं
लेकिन सवाल 

अब भी वही खड़े हैं..
जवाब के इंतज़ार मे..

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home