Friday, June 17, 2011

तिल को किसने ताड़ बनाया

 तिल को किसने ताड़ बनाया
ये मेरी कुछ समझ ना आया
छोटी छोटी बातों को
क्यूँ लेते हो गहराई मे
गहराई मे जाते ही बात बड़ी हो जाती हैं
बड़ी बड़ी बात ही समस्या की जड़ कहलाती हैं
बातों को विश्राम दो ना कोई आयाम दो
मत करो छोटी बातें
मत करो ओछी बातें
बातों से हमारी पहचान है
बातें ही हमारे व्यक्तिव की शान है
कौन कैसा हैं? बातों से ही तो पता चलता हैं
चुप रहे सामने वाला तो कैसे पता चले ?
की वो मॅन मे क्या घात रखता है...
अतः अच्छी बातों की कोशिश करे...
क्यूँ दूसरो के चक्कर मे अपने संबंध खराब करे
आगे तेरी मर्ज़ी हैं..
जो तू करे उसमे तेरी ही उन्नति रुकती हैं..
सफल होने का प्रयास करे...
क्यूँ बेकार की बातों मे समय अपना खराब करें..
समय अपना खराब करे..........

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home