Wednesday, July 6, 2011

रोटी



मेरे मॅन मे
विचार आता हैं
क्यूँ कोई रोटी को
मोहताज़ होता हैं
क्या सब को रोटी
नही मिल सकती
भूख तो ऐसी चीज़ हैं..
जो रोके से भी नही रुक सकती
भूख जब लगती हैं
कुछ ना दिखाई देता हैं
भूख के समय
राजा हो या रंक
सभी का
एक सा हाल होता हैं
तो क्यूँ नही समझ पाते
एक दूसरे की पीड़ा
सोच कर भी मलाल
होता हैं
रोटी से उपर उठे
तो कुछ और भी सोचे
रोटी के चक्कर मे
सारा बवाल होता हैं
मेरा मॅन आज भी
इसी व्यथा से
चीख चीख कर रोता हैं..
कोई दे मेरे
सवाल का जवाब
क्या तुम्हारे दिल का भी
यही हाल होता हैं...

  • Satish C Sharma likes this.
    • Satish C Sharma 
      bahut saarthak soch lekin ye durbhagya hai is desh ka, maanavta ka ki hum is soch ko aage nahin badha paate hain aur ye soch sirf sahityik kitaabon mein hi kahin gum ho jaati hai, haan is aawaaj ko uthaane walon mein se anek ki sirf bhhook hi nahin miti hogi balki anek pushton ki roji roti ka jugaad ho gaya haga, magar haay ree kismat, kabhi is vishay per koi is samasya ko samapt karne ke liye char kadam bhi nahin badha, haan jo desh is disha mein aage badhe hian unhone na jaane apne desh ko chhodkar kitno ke bhookhe marne ka jugaad kar diya hoga, lekin ye hidden effect hai isliye koi nahin dekhta jab clear facts and effects ko koi nahin dekhta, sharm aani chahiye hamein apne manushya hone per, lekin har sahitykaar aur sattadheesh apne apraadhon ko dhakne ke liye doosron per laanchhan lagakar apne satkarm ki itishri samajh leta hai,
      a few seconds ago · 


2 Comments:

At July 6, 2011 at 1:11 AM , Blogger satish sharma 'yashomad' said...

बहूत सुंदर अभिव्यक्ति है . अच्छा हो यदि पूरी
रचना को अलग अलग पैरों में विभक्त किया जाता
तो इसका प्रभाव और बढ़ जाता .

 
At July 6, 2011 at 4:43 AM , Blogger aparna khare said...

शुक्रिया बाबू जी अपने मेरे ब्लॉग के लिए समय निकाला आपके सजेशन का मैं ज़रूर पालन करूँगी...

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home