Saturday, July 16, 2011

हमे आज भी आता हैं

हमे आज भी आता हैं 
दिल मे उतरना
खामोशी से बाते करना
नीरवता मे स्वप्न देखना
सांसो का स्पंदन सुनना
धड़कनो को गिनना
आहट को पहचान लेना
थरथराते होंठो की बात समझना
क्या ये प्यार हैं ??
या कुछ और??





0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home