Tuesday, October 4, 2011

कैसा प्यार हैं तुम्हारा?

तुम मुझे प्यार करते हो..
मेरे लिए इतना ही बहुत हैं
मुझे तुम्हारे गुलदस्ते की
दरकार कहाँ हैं?
माना तुम्हारी जान की कीमत 
तुम नही जानते?
इसलिए तुम मुझे 
अपनी जान कहते हो
लेकिन मुझसे पूछो
तुम्हारी जान मेरे लिए 
क्या कीमत रखती हैं...
तुम मुझे अपना 
सब कुछ देते हो
लेकिन मुझे पता हैं 
उस वक़्त भी तुम अपना अहम
मुझसे बचा लेते हो...
तुम्हे लगता हैं कहीं तुम 
लुट ना जाओ?
कहीं तुमसे तुम्हारा
सर्वस्व ना छिन जाए!!!
और मैं अपने को पाती हूँ पूर्ण
जब अपना सर्व तुम्हे दे देती हूँ
तुम मे और मुझमे बस 
इतना ही अंतर हैं
तुम गीत भी लिखते हो 
मेरे लिए तो उसका 'मर्म'
अपने पास रख लेते हो...
अपनी "मैं" को हर वक़्त 
सहेजते रहते हो..
फिर भी कहते हो 
कि तुम 
मुझे प्यार करते हो
मैं पूछती हूँ ....
कैसा प्यार हैं तुम्हारा?


    • Anil Ayaan Shrivastava माना तुम्हारी जान की कीमत
      तुम नही जानते?
      इसलिए तुम मुझे
      अपनी जान कहते हो
      लेकिन मुझसे पूछो
      तुम्हारी जान मेरे लिए
      क्या कीमत रखती हैं...
      तुम मुझे अपना
      सब कुछ देते हो
      लेकिन मुझे पता हैं
      उस वक़्त भी तुम अपना अहम
      मुझसे बचा लेते हो...
      Bahut achchi baat kahi hai apne... Aprna mam..... Verynice poetry....

      Saturday at 11:46am ·  ·  2 people

    • Aparna Khare thanks Anil Ayaan Shrivastava
      Saturday at 11:47am ·  ·  1 person

    • Aparna Khare to ye baat hain......
      Saturday at 11:51am · 

    • Parveen Kathuria bahut khoobsurat rachna..
      Saturday at 11:52am ·  ·  1 person

    • Aparna Khare thanku...
      Saturday at 11:52am · 

    • Manoj Gupta निर्मल पावन कोमल शीतल ,
      कैसा है स्पर्श तुम्हारा |
      तन मन की कैसी पीड़ा हो ,
      हर लेता है प्यार तुम्हारा |

      जब भी जीवन में थकता हूँ ,
      तेज धुप में मैं तपता हूँ |
      जीवन का हर ताप मिटाता
      आँचल का इक सार तुम्हारा |

      मुझे खिला तुम भूखे रहती ,
      ढाल बनी सब सुख दुःख सहती |
      शब्दों में ना कह पाउँगा ,
      अकथनीय है प्यार तुम्हारा |

      बचपन में जब बाल खींचकर ,
      जब - जब मैंने तुमको मारा |
      तब - तब तुमने शीश चूमकर ,
      जाने तुमने कितना दुलारा |
      कैसे भूल सकूँगा माँ मैं ,
      निश्छल वो दुलार तुम्हारा |

      मन में अब अभिलाषा एक ,
      चाहे मिले जन्म अनेक |
      गोंद तुम्हारी , प्यार तुम्हारा ,
      आँचल का हो सार तुम्हारा

      Saturday at 11:58am ·  ·  2 people

    • Aparna Khare waah.....
      Saturday at 11:59am · 

    • Manoj Gupta गर हो सके तो ये राज बता दो
      तुम्हे कैसे प्यार करू समझा दो
      ये दूरिया दिलो की सही नहीं जाती
      दर्दे दिल गैरों से कही नहीं जाती
      करीब तुम्हारे आने का रास्ता बता तो
      तुम्हे कैसे प्यार करू समझा दो
      क्यों पास मेरे तुम इतने आये
      क्यों दिल के सोये अरमान जग्गाये
      दिल के जलते अरमानों को जुल्फों की हवा दो
      तुम्हे कैसे प्यार करू समझा दो
      वीराने चमन में तुम बहार बनके आये
      फुल मोहब्बत के इस चमन में मुस्कुराए
      जिंदगी मेरी अपने तबस्सुम से सजा दो
      तुम्हे कैसे प्यार करू ये समझा दो
      न जाना दूर कही अब इस दिल के साए से
      न लगाना दिल कही अब किसी पराये से
      आके मेरी बाहों में इस जहां को भुला दो

      तुम्हे कैसे प्यार करू समझा दो l

      Saturday at 12:00pm ·  ·  3 people

    • Aparna Khare gar sab bata diya maine to kya reh jayega....tumhara pyar bhi kya kabhi auto generated ho payega....hahaha
      Saturday at 12:01pm ·  ·  2 people

    • Manoj Gupta chalo koi nahi , Raz ko Raz rahne do chalega ye to keval kavita hai ............
      Saturday at 12:03pm ·  ·  2 people

    • Aparna Khare ye hui na baat......
      Saturday at 12:03pm ·  ·  1 person

    • Manju Gupta 
      तुम गीत भी लिखते हो


      मेरे लिए तो उसका 'मर्म'


      अपने पास रख लेते हो...

      अपनी "मैं" को हर वक़्त

      सहेजते रहते हो..

      Saturday at 12:05pm ·  ·  3 people

    • Saroj Singh वाह अपर्णा !!!!सुन्दर भावपूर्ण कविता ,,
      Saturday at 12:13pm ·  ·  1 person

    • Aparna Khare thanks Saroj ji
      Saturday at 12:14pm · 

    • Aparna Khare thanks Manju ji
      Saturday at 12:15pm · 

    • Madan Soni chalo koi nahi , Raz ko Raz rahne do chalega ye to keval kavita hai ............

      kuch to log kahenge .......lo..go ka kaam hai kahna
      chhodo bekaar ki baton me ............kahin beet na jaye raina ..........

      Saturday at 12:15pm ·  ·  2 people

    • Aparna Khare arrey bhai aisa kuch nahi hain......
      Saturday at 12:16pm · 

    • Madan Soni kuchh na kaho ..
      kuchh bhi na kaho ..
      kya lena hai kya dena hai ,
      mujhko pata hai ,,tumko pata hai .......

      Saturday at 12:24pm ·  ·  2 people

    • Aparna Khare okkkkkkkkkkk
      Saturday at 12:25pm ·  ·  1 person

    • Madan Soni kahin pe nigahe kahin pe nishana ???
      Saturday at 12:25pm ·  ·  1 person

    • Aparna Khare jaise ho jalim....hame na marwana..
      Saturday at 12:25pm · 

    • Madan Soni maanta hoon ......sab janta hoon ....
      Saturday at 12:26pm ·  ·  1 person

    • Madan Soni naman is prem ko .......jai jai
      Saturday at 12:26pm · 

    • Aparna Khare ye apka pyar hain janab....jo mere shabdo ke akaar se bada ho gaya hain.....
      Saturday at 12:27pm ·  ·  1 person

    • Madan Soni ye apka pyar hain janab....jo mere shabdo ke akaar se bada ho gaya hain.....

      hammm...... tabhi to aansuon ke moti bankar mere samne aa khada ho gya hai ..

      Saturday at 12:29pm ·  ·  1 person

    • Madan Soni tum aa gaye..ho.........................nahi to charagon se lo ja rahi thi ..........
      Saturday at 12:32pm ·  ·  1 person

    • Ramesh Sharma 
      तुम्हे लगता हैं कहीं तुम


      लुट ना जाओ?


      कहीं तुमसे तुम्हारा

      सर्वस्व ना छिन जाए!!!

      और मैं अपने को पाती हूँ पूर्ण

      जब अपना सर्व तुम्हे दे देती हूँ...wahhhh

      Saturday at 1:04pm ·  ·  2 people

    • Aparna Khare thanks Ramesh ji
      Saturday at 1:05pm ·  ·  1 person

    • Ashish Tandon बहुत सुंदर अपर्णा जी
      Saturday at 1:13pm ·  ·  1 person

    • Aparna Khare thanks Ashish ji
      Saturday at 1:14pm ·  ·  1 person

    • Rajiv Jayaswal Na jane kaun kis ko pyar karta hai, pyar ko samajhna bahut mushkil hai Aparna ji.
      Saturday at 1:25pm ·  ·  1 person

    • Rajani Bhardwaj अपनी "मैं" को हर वक़्त
      सहेजते रहते हो..
      फिर भी कहते हो
      कि तुम
      मुझे प्यार करते हो.............. sawal ki khasiyat unhe heran kr degi........munh baye dekhenge wo tumhe.........umda aparna

      Saturday at 1:26pm ·  ·  1 person

    • Aparna Khare sach kaha...na jane kitne kon hain pyar ke...
      Saturday at 1:26pm · 

    • Aparna Khare thanks Rajni ji
      Saturday at 1:27pm · 

    • Madan Soni 
      तुम पूछती हो ....


      कैसा प्यार हैं तुम्हारा?


      मुझे प्यार करती हो और
      ...See More

      Saturday at 1:46pm ·  ·  2 people

    • Aparna Khare jai Ho....................
      Saturday at 1:50pm ·  ·  1 person

    • Aparna Khare kya baat hain Madan ji
      Saturday at 1:51pm ·  ·  1 person

    • Madan Soni SHABD चुम्बक अभी भी आपके हाथ में है............. ..
      Saturday at 1:53pm ·  ·  1 person

    • Aparna Khare mere kaha apne le li mujhse
      Saturday at 1:53pm ·  ·  1 person

    • Madan Soni नहीं ......कभी नहीं .......मैं .कभी .पार नहीं पा सकता .......
      Saturday at 1:54pm ·  ·  1 person

    • Madan Soni पिछले तीन घंटों से उथल पुथल हो रही THI
      Saturday at 1:55pm ·  ·  1 person

    • Alam Khursheed Bahut achhe bhav hain Aparna Ji!
      Badhaiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii

      Saturday at 2:19pm ·  ·  1 person

    • Aparna Khare thanks Alam ji
      Saturday at 2:20pm · 

    • Om Prakash Nautiyal 
      ‎*
      "..तुम गीत भी लिखते हो
      मेरे लिए तो उसका 'मर्म'
      अपने पास रख लेते हो...
      अपनी "मैं" को हर वक़्त
      सहेजते रहते हो.."
      वाह , बहुत उम्दा !!
      *

      Saturday at 2:25pm ·  ·  1 person

    • Niranjana K Thakur wah bahut khoob !
      Saturday at 6:30pm ·  ·  1 person

    • Gopal Krishna Shukla 
      सुन्दर रचना अपर्णा जी.... बहुत खूब....


      तुम गीत भी लिखते हो
      मेरे लिए तो उसका 'मर्म'
      अपने पास रख लेते हो...
      अपनी "मैं" को हर वक़्त
      सहेजते रहते हो..
      फिर भी कहते हो
      कि तुम
      मुझे प्यार करते हो.......

      मनभावन पंक्तियां.... पर यह मनुष्य का स्वभाव है कि वो अपने अहं को नही छोड पाता... शायद यही मनुष्य के लिये कभी उत्थान और कभी पतन का कारण बनता है....

      Saturday at 6:33pm ·  ·  1 person

    • Aparna Khare thanks Om Prakash Nautiyal ji
      Saturday at 9:11pm · 

    • Aparna Khare thanks Niranjana K Thakur ji
      Saturday at 9:11pm · 

    • Aparna Khare thanks Gopal Bhai
      Saturday at 9:12pm · 

    • Chitra Rathore Aparna Ji...nice cmpstn...
      hum ...pyaar main...khud ko mitaatey chale gaye...
      aur aap...khud ke guroor main...faasle badhaatey ...chaley gaye...

      Saturday at 9:39pm ·  ·  1 person

    • Aparna Khare sach kaha Chitra ji...guroor se badhte hain faasley...
      Saturday at 9:45pm ·  ·  1 person

    • Rajeev Pal · Friends with Sonroopa Vishal and 3 others
      sach kaha Aap ne guroor se badhte hain faasley...
      Saturday at 9:51pm ·  ·  1 person

    • Aparna Khare thanks Rajeev ji...
      Saturday at 10:20pm · 

    • Naresh Matia badhiya rachna.....par pyar mei keemat lagegi to...koi bechne wala hoga to koi khareedar.....fir koi apna ahm bhi dikhayega to kai nat-mastak hokar...apni khoobi ginayega.....
      Saturday at 10:51pm ·  ·  1 person

    • Uttkarsh Prakashan बहुत सुंदर पंक्तियाँ हैं ......
      Sunday at 12:48am ·  ·  1 person

    • Uttkarsh Prakashan वाह ! बहुत बढ़िया !
      Sunday at 12:49am ·  ·  1 person

    • Poonam Matia Aparna Khare........kaun kitna smarpan bhav rakhta hai ......ye uspar nirbhar karta hai ........har kisi ka aham uske liye mahatvpoorn hai ........kya ye swaal kar ham apna aham nahi darsha rahe?????????????????????
      Sunday at 2:37am ·  ·  1 person

    • Aparna Khare thanks Poonam Matia ji haa....
      Sunday at 7:56pm · 

    • Aparna Khare aham to hain..lekin yu i na chali jaye jindagi.....iske liye kabhi kabhi jaruri ho jata hain..
      Sunday at 7:57pm ·  ·  1 person

    • Aparna Khare thanks Uttkarsh Prakashan....
      Sunday at 7:57pm · 

    • Aparna Khare thanks naresh ji
      Sunday at 7:57pm · 

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home