Tuesday, October 4, 2011

हमारा प्यार


देखो मेरा प्यार हाथ मे लिए 
तुम अभी तक वही खड़े हो 
जहाँ मैने छोड़ा था
लेकिन ये क्या?
मेरा प्यार तो अब भी... 
जो अलगनी पे टंगा था
सूख चुका था
पानी की छींटे मारते ही
कैसे जिंदा हो गया....


रिश्ते जो पक चुके थे
धीमी आँच पे
उनमे कुछ स्वाद सा आया हैं
चखो और बताओ...
कैसा बन पड़ा हैं
मेरा प्यार..
तुम्हारा प्यार
नही..नही
हमारा प्यार



  • You, Amod KhareNeha ArvindUbhan Suyessh and 24 others like this.
    • Ashish Khedikar Wah... bahut khoob Aparna ji...
      October 7 at 11:40am ·  ·  2 people
    • Manoj Gupta उसे भी मालूम है
      मुझे भी पता है
      और हम दोनों के बीच
      बहती
      इस चुपचाप -नदी को भी ज्ञात है
      की उसी की तरह
      कितना ....गहरा ....विस्तृत है हमारा प्यार
      October 7 at 11:41am ·  ·  2 people
    • Aparna Khare thanks Ashish ji
      October 7 at 11:41am ·  ·  1 person
    • Aparna Khare waah..manoj ji
      October 7 at 11:41am · 
    • Manoj Gupta 
      हमारा प्यार
      रेस्तरां की इस सेविका की
      आंखों में
      मुस्कुरा रहा है
      उसे मौका दो

      हमारा प्यार
      ज्लातना प्यासा की
      भट्टी में पकी
      सोन मछली की
      गंध में
      फैल रहा है
      इसे उठा लो।

      हमारा प्यार
      इस्सर नदी की कलकल में
      गुनगुना रहा है
      इसमें नहा लो।

      हमारा प्यार
      इस पहाड़ी की धुंध में
      खो गया है
      अब चलो।

      ज्लातना प्यासा (सोन मछली) : रेस्तरां का नाम
      इस्सर : सोफिया की बगल में बहती नदी
      October 7 at 11:42am ·  ·  1 person
    • Saroj Singh तुम्हारा प्यार
      नही..नही
      हमारा प्यार..............वाह बहुत सुन्दर भाव अपर्णा........पुराने होते रिश्तों में नई खुशबु भरती हूँ रचना ...
      October 7 at 11:49am ·  ·  3 people
    • Ashish Tandon सुंदर अभिव्यक्ति ....
      October 7 at 11:50am · 
    • Aparna Khare Thanks Saroj ji
      October 7 at 11:50am · 
    • Aparna Khare thanks ashish ji
      October 7 at 11:50am ·  ·  1 person
    • Gunjan Agrawal ohh kitna alag.. aacha laga.... balki...subah subah muh ka swad badhiya ho aaya.... zyekedar... aise hi badhiya sa likhti raho... kuch alag swad liye
      October 7 at 11:53am ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks gunjan ji
      October 7 at 11:54am ·  ·  1 person
    • Nitesh Kumar very nice one...
      October 7 at 11:56am ·  ·  1 person
    • Manoj Kumar Bhattoa वाह बहुत सुन्दर ....
      October 7 at 12:10pm ·  ·  2 people
    • Suman Mishra देखो मेरा प्यार हाथ मे लिए
      तुम अभी तक वही खड़े हो ...अति sunder
      October 7 at 12:23pm ·  ·  2 people
    • Aparna Khare thanks suman
      October 7 at 12:26pm · 
    • Om Prakash Nautiyal ‎*
      "..रिश्ते जो पक चुके थे
      धीमी आँच पे
      उनमे कुछ स्वाद सा आया हैं .."
      वाह, क्या बात है !! बहुत सुन्दर !!!*
      October 7 at 12:30pm ·  ·  1 person
    • Aameen Khan Aaj bhi hamm usi mod par khade hai; jahaa tum chhod gaye the; Magar kaash tumhare lautatey kadamon ka ehsaas hota..............
      October 7 at 12:52pm ·  ·  1 person
    • Niranjana K Thakur bahut khoobsurat ji !
      October 7 at 1:23pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks aamen ji
      October 7 at 1:38pm · 
    • Aparna Khare thanks Niranjana K Thakur ji
      October 7 at 1:38pm · 
    • Ramesh Sharma wahhhhhhhhhh
      October 7 at 2:29pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Ramesh ji
      October 7 at 2:30pm · 
    • Ramesh Sharma 
      रिश्ते जो पक चुके थे

      धीमी आँच पे

      उनमे कुछ स्वाद सा आया हैं

      चखो और बताओ...

      कैसा बन पड़ा हैं

      मेरा प्यार..

      तुम्हारा प्यार

      नही..नही

      हमारा प्यार

      bahut accha likha hai...
      October 7 at 2:31pm ·  ·  2 people
    • Rajani Bhardwaj देखो मेरा प्यार हाथ मे लिए
      तुम अभी तक वही खड़े हो ...................umda
      October 7 at 3:00pm ·  ·  2 people
    • Anjali Kulshrestha क्या सोच है अपर्णा जी बहुत ही गंभीर ....हमारा प्यार ...बहुत खूबसूरत
      October 7 at 3:23pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare shukriya Anjali ji...
      October 7 at 3:23pm · 
    • Gopal Krishna Shukla सुन्दर रचना अपर्णा जी....
      सच्चा प्यार कभी भी मरता नही है...किसी वजह से तल्खी आ जाने पर सुस्त जरूर होता है पर फ़िर पनप जाता है एक हरे-भरे खुशहाल वृक्ष की तरह...
      October 7 at 4:29pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare sach kaha apne
      October 7 at 4:29pm ·  ·  1 person
    • Anil Maheshwari · Friends with Rahim Khan and 60 others
      bahut khoob.............Aparna ji
      October 7 at 4:30pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Anil ji
      October 7 at 4:31pm ·  ·  1 person
    • Parveen Kathuria ye mere tumhara khatam hokar sirf hamara ban jaye to duniye kitni khoobsurat ho jaye....aapne bahut khoobsurat rachna likhi hai....कैसा बन पड़ा हैं
      मेरा प्यार..
      तुम्हारा प्यार
      नही..नही
      हमारा प्यार...wah..bahut khoob...Aparna Khare ji
      October 7 at 7:33pm ·  ·  1 person
    • Naresh Matia 
      kal tarkaari pakai ja rahi thee...aaj rishte..pakaaye ja rahe hain....badhiya hain....waise jaise kahaa ki...
      रिश्ते जो पक चुके थे
      धीमी आँच पे
      उनमे कुछ स्वाद सा आया हैं
      चखो और बताओ...
      कैसा बन पड़ा हैं
      मेरा प्यार..
      तुम्हारा प्यार
      नही..नही
      हमारा प्यार
      .........bilkul sahi bat hain...rishto mei sabse ahm jo cheej hain wo hain dhairya...dhairya rakh kar ek dusre ko samjhna....tabhi rishte dheemee aag mei pakte hain.....aur aisa karne se...sirf rishte hi pakte hain...rishto mei log fijool bato se nahi 'pakte'................ek badhiya rachna
      October 7 at 11:13pm ·  ·  1 person
    • Poonam Matia 
      रिश्ते जो पक चुके थे
      धीमी आँच पे
      उनमे कुछ स्वाद सा आया हैं
      चखो और बताओ...
      कैसा बन पड़ा हैं
      मेरा प्यार..
      तुम्हारा प्यार
      नही..नही
      हमारा प्यार// bahut sunder bhaav
      Saturday at 1:51am ·  ·  2 people
    • Maya Mrig हम्‍ममम ठीक पक गया है------ बस थोड़ी मिर्च की कमी है---- हा हा
      Saturday at 8:46pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Maya Sir, mirch daalne se chatpata ho jayega ....
      Saturday at 9:13pm ·  ·  1 person
    • Aparna Khare thanks Poonam ji.....
      Saturday at 9:13pm · 
    • Aparna Khare thanks Naresh ji....
      Saturday at 9:13pm · 
    • Aparna Khare thanks Parveen ji....sahi hain
      Saturday at 9:14pm · 




0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home