Saturday, April 21, 2012

लाजो हया शर्म
हमारा गहना हैं
कहर तुमपे अब और
नही करना हैं
खोल दिए हैं दरवाज़े दिल के
शानो शौकत से
तुम्हे दिल मे रहना हैं

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home