Wednesday, February 1, 2017

मौत को चुनौती

मौत
आओ मैं तुम्हारा 
वरण करना चाहती हूँ
हिम्मत है तो आँखे मिलाओ
सामने आओ
लेकिन मैं जानती हूँ
तुम नहीं आओगी
डराती हो दुनिया भर को
किंतु
मुझे नहीं डरा पाओगी

लोग रोते है
चीखते है
चिल्लाते है
यहाँ तक कि
तुमसे बचकर 
छिप जाना चाहते है
तब तुम लेती हो 
उनसे और मजे
कभी बीमारी भेज कर
कभी उनसे उनके 
अपनों को छीनकर
या खाली करके 
उनकी दौलत
तुम उन्हें बुरी तरह 
तोड़ देती हो
दिलवा कर उन्हें उन्ही के 
बच्चो से धोखा
उन्हें असहाय कर देती हो
बेचारे टूट कर वो दुनिया से
जब पकड़ लेते है खाट
तुम उन्हें शान से 
चार कंधो पे लाद
अपने घर ले चलती हो

है हिम्मत तो 
कभी किसी समर्थ को
हाथ लगा कर दिखाओ
टूट जायेंगे तुम्हारे बाजू
जरा एक बार 
हाथ तो मिलाओ

1 Comments:

At February 4, 2017 at 1:45 AM , Anonymous Anonymous said...

WOOOOOOOOOOO......

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home