Tuesday, March 13, 2018

मशहूर अदाकारा श्रीदेवी का अकस्मात परलोक गमन


नया जनम
नया देश
नया शहर
नया घर
नए माता पिता
नए भाई बहन
नए लोग
फिर से चढ़ना होगा
हौले हौले
उम्र का पायदान
एक, दो, तीन, चार
सीढियो से तय करना होगा
नया सफर
फिर से बनानी होगी
अपनी नई पहचान
फिर से देने होंगे
कई कड़े इम्तेहान
तब लोग
पहचान पाएंगे तुमको
तुम्हारे नए नाम से
सच
मरना भी
इतना आसान नही होता
जीने की तरह
तिल तिल कर
बढ़ना होता है
जीने में तो पता होता है
मेरी राह क्या है
मर कर तो
सब कुछ
नए सिरे से
करना होता है!
क्यों जाते हो ?
छोड़कर
मत जाओ

रुक जाओ
मुड़ कर देख लो
एक बार
सच कहती हूँ
जा नही पाओगे
कहाँ से लाओगे
ऐसा सच्चा प्यार
ढूंढते ढूंढते
थक नही जाओगे

अपर्णा खरे

(श्री देवी जी की मृत्यु से व्यथित)

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home