Saturday, July 2, 2011

हम तो है कठपुतली जैसे


हम तो है कठपुतली जैसे
नाचते रहते हरदम
जैसे चाहता हमे नचाता
डोरी पकड़े हरदम
डोरी उसकी 
सुख मे घूमे तो
हम सुखी हो जाए
रहे कृपा उसकी तो
दुख  हमको  
छू   भी ना पाए
भाई बहन 
माता पिता
सुख संपत्ति से भरता
डोरी घूमे तो 
सारी खुशिया ले लेता
दुख मे ऐसा कर दे..
सुख की 
सोच ना पाए
ऐसा है कठपुतली वाला
पकड़ के हमको 
नाच नचाए
छोड़ दे सब कुछ 
उसके उपर
ना सोचे कुछ कल की
रहे सदा हम आज मे  
सुख ही सुख मनाए





0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home