Thursday, September 29, 2011


गुनगुनाते रहे..यू ही मुस्कुराते रहे
गमो को सदा यू भुलाते रहे
किया था वादा कभी आपने
उसे बस यू ही निभाते चले
अड़चने आए चाहे जितनी यहाँ
कदम से कदम यूँ मिलाते रहे...
एक दिन आपका भी वक़्त आएगा
दुनिया से आपकी पहचान कराएगा
छिपा हैं कोई सितारा यहाँ
बिखेरी हैं सबने अपनी रोशनी यहाँ

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home