Tuesday, November 20, 2012

वो पुराने खत





आज जब सामने आए 
वो पुराने खत 
दिल से एक आह निकली..........
किया था कभी तुम्हे प्यार
वो बात निकली.......
खतो को चूमा तो उभर आया 
तुम्हारा अक्स..........
तभी देखा आँखो से 
आँसू की कतार निकली.

2 Comments:

At November 20, 2012 at 2:28 AM , Blogger Madan Saxena said...

पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब
बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

 
At November 20, 2012 at 2:50 AM , Blogger aparna khare said...

shukriya Madan ji..apko pasand aya hamara blog...ap yu hi hamari hausala aafjayi karte rahe..hame achha lagega...

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home