Tuesday, August 12, 2014

सफेद बाल (40 saala admi)

चालीस के बाद, पचास के पहले
है...... एक अलग ....उम्र डगर
जब..... डरता हैं तुम्हारा मन
कहीं कोई ....रिजेक्ट ना कर दे
तब ये क्यूँ भूल जाते हो..
कानों के ऊपर, 

सफ़ेद होते बालों की चमक
तुमने एक दिन मे नही  पाई हैं..
इन्ही सफेद बालों की खातिर

तुमने अपनी .....४० साल की ...उमर  गवाई हैं...
ये भी .....बी टेक, मॅनेज्मेंट की तरह
एक डिग्री हैं..

जो बिना ........समय दिए नही मिलती हैं
इसमे छिपा होता हैं .......एक अनुभव....
जो तुम्हे...... और भी ....गरिमामय बनाता हैं..
ये अनुभव........ लिवाइस जींस व टी शर्ट
पहने तुम्हारे जवान होते बेटे को 

तो
छू भी नही पाता हैं...
सच..... दिल धड़कने का भी अलग मज़ा हैं...
पहले धड़कता था ......कमसिन बाला के लिए
अब खुद के जीने के लिए धड़कता हैं..
रखनी पड़ती हैं ......हर वक़्त 

जेब मे ........ सारबीट्रॅट की गोली.(secure from Heart Attack)..
चन्द टॉफी....पता नही कब शुगर निल हो जाए..
या फिर....... दिल ज़ोर ज़ोर से धड़कने लग जाए......
इसी उम्र मे तो ....होती हैं..बढ़ती बिटिया की चिंता..
जवान होते बेटे को...... सेट्ल करने का tension ..
जब तक सब कुछ ठीक ना हो जाए.......
मन डरता हैं...इसी कारण .......ये दिल....सफेद बालों से डरता हैं..

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home