Wednesday, September 21, 2016

मौत अब
आती नहीं
जिंदगी जी
जाती नहीं

पशोपेश में हूँ
क्या करूँ
वक़्त से मेरी
अब और
सुनी जाती नहीं

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home