Wednesday, September 21, 2016

यहाँ तो उदासी का
ये आलम है
हटने का
नाम ही नहीं लेती
हर सुबह आ जाती है
बेसबब
अपनी याद दिलाने
दिल को तड़पाने
आँखों को भिगाने।।।।

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home