Tuesday, August 2, 2011


तुम्हारी आँखो मे अपना
अक्स देखता हूँ..
तुम्हारी बातो मे अपना
नक्श देखता हूँ
कह सकूँ तुमको अपना
हर वक़्त वो वक़्त ढूंढता हूँ

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home