Saturday, May 18, 2013

हम अभी तक जवान हैं.. बुड्ढे नही हुए..





तुम अभी तक वैसे के वैसे हो..
मिलते ही बाज़ नही आते हो चिढ़ाने से
क्या अच्छा लगता हैं ये सब?
इस उम्र मे जब दोनो के बच्चे बड़े हो चुके हैं
अब उनकी उम्र हैं आँखे चार करने की
हमारी उमर तो निकल गई हमारे हाथ से..
अब नही करना ऐसी शैतानी
वरना वो क्या कहेंगे..
हम अभी तक जवान हैं..
बुड्ढे नही हुए..

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home