Friday, January 11, 2013



 मेरा कहना मानो तुम लगा लो मोहब्बत को गले.. 

गम बाद मे तुम्हारे पास खुद जाएगा.. 
कभी ना सुलझ पाओगे..कभी ना हिसाब कर पाओगे 
जिंदगी चली जाएगी...फिर हाथ मलते रह जाओगे.. 
अभी लो मज़ा सुकूने जिंदगी का..वरना पछताओगे.. 
कहाँ पढ़ पाता हैं कोई ठीक से ढाई आखर भी 
सब बने फिरते हैं पंडित यू ही.. 
बीवी मिली लक्ष्मी जैसी, बुरे शौक दिया सब छुड़वाय, 
रोते हो क्यूँ भैया, सब अच्छा हो जाए .. 
बाबू जी अभी भी कुछ नही बिगड़ा हैं.. 
ठान ले अगर मन मे तो क्या नही हो सकता हैं 
मिटा देंगे उनकी हस्ती को..जो हमसे भिड़ा हैं.. 
क्या करते हो जी.. 
पहले करते हो मोहब्बत 
फिर तरसते हो जी.. 
रोज़ महबूबा बदलना इसमे खूबी क्या हैं 
ये तो नीचता की निशानी हैं.. 
मोहब्बत तो एक बार होती हैं.. 
जन्मो जन्मो तक साथ चलती हैं 
देख बिज़ली मॅटरु का मंडोला 
अब कहाँ जाए बिज़ली..कहाँ खाए हिचकोला  
वक़्त ने की वफ़ा आप हमारे हुए.. 
हम आप के साथ साथ सबके भी प्यारे हुए.. 
आप पुराने, आपका प्यार पुराना 
करते हो वफ़ा सबसे..तुमसे क्यूँ ना हो जमाना 
औरत तेरी अज़ब कहानी.. 
जिसने चाहा उसने लूटा.. 
मार लिया आँखो पानी 

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home